आलीराजपुर। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान जोबट के समीप ग्राम देगांव में मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान के शिविर में शामिल हुए। उन्होंने मंच से कहा कि कोई ईमानदारी से काम कर रहा है तो उसे पुरस्कार मिलेगा। मगर किसी ने बेईमानी की तो उसे नौकरी करने लायक नहीं छोड़ूंगा। सीएम शनिवार दोपहर जोबट के गांधी चौक में चुनावी सभा को संबोधित करने के बाद यहां पहुंचे थे। उन्होंने शिविर में मौजूद हितग्राहियों से योजनाओं के लाभ को लेकर मंच से ही सवाल किए। इस दौरा आला अफसर सहित जनप्रतिनिधि मंच पर मौजूद रहे। गत कुछ दिनों से सीएम के तल्ख तेवर को देखते हुए सवाल-जवाब के बीच अफसरों के पसीने छूटते रहे। हालांकि जाते-जाते मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां काफी काम हुआ है, इसके लिए बधाई देता हूं। योजनाओं के लाभ को लेकर जो गैप है, उसको भरने की जरूरत है। कोई भी पात्र हितग्राही लाभ से वंचित न हो।

मंच पर इस तरह हुए सवाल और मिले यह जवाब

किसान कल्याण योजना के सवाल पर सीएम ने पूछा कि कितने आवेदन आए। इस पर बताया गया कि तीन। मुख्यमंत्री ने लोगों से पूछा कि बताएं कितने लोगों को लाभ नहीं मिला तो कई हाथ उठ गए। कृषि उप संचालक को मंच पर तलब कर सीएम ने कहा कि सर्वे किया या नहीं। फिर इतने हाथ कैसे उठ गए। जवाब में कलेक्टर राघवेन्द्रसिंह ने कहा कि बंटवारा न होने के कारण परिवार के मुखिया को ही लाभ मिल रहा है। इस पर सीएम बोले-यह बहुत बड़ी समस्या है। एक अलग से शिविर लगाएं ताकि सबके खाते अलग-अलग हो जाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कितने लोगों को गरीब कल्याण योजना और अन्नपूर्णा योजना के तहत राशन नहीं मिल रहा। इस पर भी लोगों ने हाथ उठाए। सीएम बोले- इतने लोग कैसे। यहां पात्रता पर्ची के कितने आवेदन आए हैं। जवाब मिला 23। सीएम ने कहा कि सबकी पर्ची बन जाए।

- आयुष्मान योजना को लेकर सीएम ने कहा कि कितने आवेदन आए हैं। किसको लाभ नहीं मिला हाथ उठाओ। इस पर कलेक्टर जवाब देने लगे तो सीएम ने टोका कि हर बात का जवाब कलेक्टर क्यों देंगे। सीएमएचओ को बुलाओ। सीएमएचओ डा. प्रकाश ढोके ने बताया कि 31 अक्टूबर तक सभी पात्र लोगों के कार्ड बना दिए जाएंगे।

- लाड़ली लक्ष्मी और किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर भी सीएम ने अफसरों को तलब किया। सहकारिता विभाग के अफसर ने बताया कि जितने लोग भी छूटे हैं, इस महीने सभी के कार्ड बन जाएंगे।

- जिन गांवों में दुकान नहीं वहां राशन की गाड़ी आती है या नहीं। इस पर लोगों ने कहा नहीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसे लेकर कई शिकायतें मिल रही हैं। समन्वय की कमी है। लोगों को मालूम ही नहीं चलता कि कब गाड़ी आई। इसलिए शेड्यूल तय करो।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close