आलीराजपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर की नगर सरकार का सम्मेलन मंगलवार को हुआ। सम्मेलन की शुरुआत में ही हंगामा खड़ा हो गया। वार्ड चार के भाजपा पार्षद ओच्छबलाल सोमानी ने कई आरोप लगाए, जिसका अफसर जवाब नहीं दे पाए। इसके बाद पार्षद सोमानी सदन का बहिष्कार कर चले गए। इसके बाद नगर में सड़क निर्माण और सौंदर्यीकरण के कई प्रस्तावों पर मुहर लगा दी गई। यह आरोप भी सामने आया कि बिना कोरम ही परिषद ने प्रस्ताव पारित कर दिए, जिस कारण यह वैधानिक नहीं हैं। हालांकि नगर पालिका सीएमओ ने इससे इंकार किया है।

लंबे समय बाद नगर परिषद की सभा बुलाई गई। बैठक की शुरुआत में पार्षद ओच्छबलाल सोमानी ने आरोप लगाया कि नगर में अवैध कालोनियों में भी नगर पालिका विकास कार्य कर रही है। धारा 339 का पालन नहीं किया जा रहा है। नगर हित में उक्त धारा का पालन किया जाए, फिर विकास कार्य किए जाएं। कालोनियों में 20 फीट रोड छोड़ने के बाद मकान निर्माण के दौरान तीन से चार फीट के ओटले बना दिए जाते हैं। इस ओर नगर पालिका प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इस पर नगर पालिका उपाध्यक्ष संतोष मकु परवाल ने कहा कि पहले बिंदुवार एजेंडे में शामिल प्रस्तावों पर बात की जाए। इस दौरान कालोनियों का मुद्दा आए तो उक्त सवाल उठाए जाएं। इस दौरान नगर पालिका अध्यक्ष रितेश डावर और अफसर चुप बने रहे। उपाध्यक्ष परवाल और पार्षद सोमानी के बीच नियमों को लेकर बहस होती रही। इस बीच पार्षद सोमानी भड़क गए और सदन का बहिष्कार कर दिया।

हठधर्मिता चलाई जा रही है, पार्षदों की कोई सुनवाई नहीं

बाद में मीडिया से चर्चा में पार्षद सोमानी ने कहा कि बैठक में हठधर्मिता चलाई जा रही है। पार्षदों की बात सुनने को कोई तैयार नहीं। अगर किसी कालोनी विकास का सवाल खड़ा किया जाए तो खल रहा है। मैंने सिर्फ इतना ही कहा कि सभी कालोनियों में नियम के अनुसार ही कार्य होने चाहिए। लेकिन अफसर सुनने को राजी नहीं। उल्टा यहां नियम-कायदे बताए जा रहे हैं। इसलिए बैठक का बहिष्कार कर जा रहा हूं।

सिर्फ सात पार्षद ही पहुंचे, कोरम को लेकर सवाल

परिषद की सभा में प्रारंभ में केवल सात पार्षद ही पहुंचे थे। इस दौरान वार्ड चार के पार्षद सोमानी ने सदन का बहिष्कार कर दिया। बाद में अध्यक्ष के अलावा केवल छह पार्षद ही बैठक में उपस्थित नजर आए। ऐसे में परिषद के कोरम को लेकर भी सवाल उठाए गए। कहा गया कि 18 पार्षदों के सदन में कम से कम 10 पार्षदों की उपस्थिति अनिवार्य है। कोरम पूरा न होने के बावजूद प्रस्ताव पारित कर दिए गए। हालांकि नगर पालिका सीएमओ अमरदास सेनानी ने कहा कि बाद में पांच अन्य पार्षद भी परिषद की सभा में शामिल हुए थे। इस कारण कोरम पूरा हो गया था।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local