आलीराजपुर/छकतला। बखतगढ़ थाना क्षेत्र के कालबेल के जंगल में जीजा-साले के शव मिले हैं। पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू की तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ। दरअसल दोनों 25 सितंबर की रात बड़ी गेंदरा जाने के लिए एक खेत से गुजर रहे थे। यहां दोनों सूअरों को मारने के लिए बिछाए गए बिजली के तार की चपेट में आ गए। करंट लगने से दोनों की मौत हो गई। घटना को छुपाने के लिए खेत मालिक ने दोनों के शव पहाड़ी से नीचे फेंक दिए। पुलिस ने जंगल में शवों को बरामद किया है।

थाना प्रभारी अनसिंह भाबर ने बताया कि भुदा पिता जगलिया उम्र 66 निवासी बड़ी गेंद्रा अपने साले 56 वर्षीय गमरिया पिता किर्तान के साथ 25 सितंबर की रात अपने गांव जाने के लिए निकला था। रास्ते में कालीबेल-फड़तला की सीमा पर कालीबेल निवासी जोगिया मानकर के खेत में दोनों करंट की चपेट में आ गए। किसान ने खेत में सूअरों को रोकने के लिए यहां तार बिछाए थे। 26 सितंबर की सुबह जब आरोपित किसान अपने खेत में पहुंचा तो दोनों के शव देखकर घबरा गया। उसने किसी को घटना के बारे में नहीं बताया तथा दोनों के शव पास की पहाड़ी से नीचे जंगल में फेंक दिए। सोमवार देर शाम ग्रामीण ने यहां शव देखे तो पुलिस को सूचना दी। इस पर शव को बरामद कर पीएम कराया गया है। थाना प्रभारी के अनुसार आरोपित जोगिया के खिलाफ केस दर्ज किया जा रहा है।

आकाशीय बिजली गिरने से किसान की मौत

सोंडवा थाना क्षेत्र के ग्राम टेमला में आकाशीय बिजली गिरने से किसान की मौत हो गई है। पुलिस के अनुसार सिरला भिलाला अपने खेत में काम कर रहा था। इस दौरान बिजले गिरने से उसकी मृत्यु हो गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local