अनूपपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

नियमितीकरण की मांग को लेकर अस्थाई तथा संविदा कर्मियों ने गुरुवार को जिला मुख्यालय में विशाल रैली निकालकर अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है।इस हड़ताल में 18 विभागों के संविदा एवं अस्थाई कर्मचारी शामिल हैं। गुरुवार को संयुक्त मोर्चा के बैनर तले कर्मचारियों ने कलेक्ट्रेट और जिला पंचायत पहुंच कर मांगों को लेकर एक बार फिर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। इस दौरान जिले के चारों तहसील क्षेत्र के विभिन्न विभागों के सैकड़ों कर्मचारी -अधिकारी मौजूद रहे। इनके हड़ताल में जाने से विभागों का कामकाज प्रभावित होने के आसार बन गए हैं।

पहले संयुक्त मोर्चा नगर में सभा आयोजित की इसके बाद बड़ी रैली कलेक्ट्रेट पहुंची यहां ज्ञापन एसडीएम जैतहरी अनूपपुर द्वारा प्राप्त किया गया।ग्रामीण विकास विभाग के संविदा कर्मचारियों ने भी ज्ञापन जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी कार्यालय में जाकर सौंपा।

राज्य कर्मचारी संघ अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा एवं संविदा अधिकारी-कर्मचारी महासंघ की जिला एवं ब्लाक इकाइयों द्वारा प्रांतीय कार्यकारिणी के आह्वान पर गुरुवार से अपनी अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है। पूर्व में भी कार्यालय में किसी तरह का कोई कामकाज नहीं किया जा रहा था और अब गुरुवार से पूरी तरह से काम बंद कर दिया गया है।इसके पूर्व दो दिवसीय अवकाश लेकर काम बंद किया गया था किंतु शासन- प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया वहीं अब कर्मचारी संगठनों ने शासन को एक निश्चित समय तक अपनी मांग को लेकर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित नहीं किए जाने पर बेमियादी काम बंद कर आंदोलन प्रारंभ कर दिया है।इस आंदोलन के कारण आम जनता के रोजमर्रा के कार्य प्रभावित होंगे।लगभग सभी कार्यालयों में संविदा कर्मचारियों के भरोसे ही काम चल रहे हैं किंतु उनके इस आंदोलन से अब कार्यालयीन कार पूरी तरह से प्रभावित होंगे। बताया गया संयुक्त मोर्चा ने वार्ता हेतु पंचायत मंत्री महेंद्र सिसोदिया के बुलावे पर 18 संगठनों के प्रदेश अध्यक्ष के बंगले पर पहुंचे लेकिन उन्हें आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। संगठन ने कहा कि आश्वासन नहीं मांगों के आदेश चाहिए। शासन के हर अभियान और योजनाओं को 18 घंटे की सेवा निष्ठा पूर्वक देकर कोविड जैसी विषम परिस्थिति में भी कर्मचारियों ने काम किया लेकिन सरकार मांगों पर कोई ध्यान नहीं दे रही जिससे कर्मचारियों में रोष व्याप्त है। संविदा 5 जून की नीति ठंडे बस्ते में पड़ी हुई है। कंप्यूटर ऑपरेटर ,संविदा कर्मचारियों की फाइलें सरकार दबा कर बैठी हुई है। इसी तरह पदोन्नाति और अनुकंपा नियुक्ति के मामले लंबित हैं। संयुक्त मोर्चा ने कहा कि 12 जुलाई को सभी संगठनों की तरफ से प्रदेश के 313 जनपद मुख्यालय और 52 जिला मुख्यालयों पर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर और सीईओ जिला पंचायत को ज्ञापन सौंपा गया था लेकिन मांगों की पूर्ति न होने पर वे हड़ताल करने के लिए बाध्य हुए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags