अमरकटंक।

जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के अधीन संचालित मॉडल ट्राइबल स्कूल का वार्षिक समारोह विश्वविद्यालय के लक्ष्मण हावनूर सभागार में नन्हें मुन्हें बच्चों की शानदार एवं मंत्र मुग्धकारी प्रस्तुतियों के साथ सम्पन्न हुआ। समारोह की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. श्रीप्रकाशमणि त्रिपाठी ने की एवं मुख्य अतिथि उप्र माध्यमिक शिक्षा सेवा आयोग के सदस्य एवं शिक्षाविद् डॉ. दिनेश मणि त्रिपाठी रहे। कार्यक्रम की शुरूआत सजे- धजे परिधान में नन्हें मुन्हें बच्चों द्वारा तिलक लगाने और अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण करके की गई। बच्चों की अभूतपूर्व प्रस्तुति से अभिभूत कुलपति प्रो. श्रीप्रकाश मणि त्रिपाठी ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन मे कहा कि इस विद्यालय के प्रतिभावान बच्चे आगे चलकर समाज और देश का नाम रोशन करेंगे। उन्होंने कहा कि संस्कारित प्राथमिक एवं माध्यमिक स्तर के विद्यार्थी उच्च शिक्षा के मेरूदंड होते हैं।

आज नौनिहालों की प्रतिभा को देखकर विश्वास हो गया है कि यह विद्यालय राष्ट्रीय स्तर पर एक आदर्श विद्यालय की पहचान अवश्य बनाएगा। विद्यालय में छात्रों एवं शिक्षकों की संख्या में वृद्धि की जाएगी ताकि दूरस्थ आदिवासी अंचल के अभिभावक अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिला सकें।

बच्चों को देश की संस्कृति और मूल्यों के अनरूप मिले शिक्षाः मुख्य अतिथि, माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के सदस्य डॉ. दिनेश मणि त्रिपाठी ने आदिवासी बच्चों द्वारा सामाजिक और राष्ट्रीय सरोकारों को स्पर्ष करते हुए दी गई प्रस्तुतियों को देखकर कहा कि विद्यालय का नाम मॉडल ट्राइबल स्कूल नहीं बल्कि मॉडल स्कूल ऑफ इंडिया होना चाहिए। शिक्षाविद् डॉ. त्रिपाठी ने कहा कि यदि बचपन से देश की संस्कृति, मूल्य और परंपराओं के अनुरूप शिक्षा दी जाय तो विश्वविद्यालयों से अराजकता के समाचार मिलने बंद हो जाएंगे।

इनका रहा योगदानः सभागार में बच्चों के उत्साहबर्धन हेतु कुलपति महोदय अपने परिवार के साथ पूरे समय उपस्थित रहे। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी एवं बच्चों के माता-पिता बड़ी संख्या में उपस्थित थे। विद्यालय के शिक्षकों कालाकान्दू पाणिग्रही, रेनुका तिवारी, नित्या कुमारी, हरिकिंकर त्रिपाठी, वीरेन्द्र जैन, अविनाश पाणिग्रही व अन्य का विशेष योगदान रहा।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket