बिजुरी(नईदुनिया न्यूज)।

नगर के आसपास गांव की सीमा क्षेत्र में स्टोन क्रशर संचालित है। पर्यावरण और खनिज विभाग की उदासीनता से क्रशर में नियमों का पालन नहीं हो रहा है।

जानकारी अनुसार थाना क्षेत्र से लगभग 10 किमी दूर ग्राम पंचायत डूंगरिया खुर्द व बड़ी डूंगरिया,नगारा बांध,बेलिया,डोला,झिरिया टोला,बहेरा बांध क्षेत्र में स्टोन क्रशर लगे हुए हैं आबादी क्षेत्र में होने के कारण यहां प्रदूषण से ग्रामीण जन परेशान हैं खनिज और प्रदूषण विभाग द्वारा पर्यावरण मानकों का पालन कराने में पूरी तरह से नाकाम है जिससे लोग यहां प्रदूषण की मार झेल रहे हैं।

यहां के टोल प्लाजा से 3 किलोमीटर की दूरी पर जो क्रशर मानक के विपरीत संचालन किया जा रहा। यहां ना तो धूल की रोकथाम के लिए हरे चादर लगाए गए हैं और ना ही पानी का छिड़काव किया जाता है।

प्लांट परिसर के चारों तरफ सबसे पहले प्रदूषण की रोक थाम के लिए हरे भरे पेड़ो को लगाना अनिवार्य है जिससे पर्यावरण के साथ आम जनजीवन के स्वस्थ्य पर बुरा प्रभाव न पड़े ,लेकिन क्रशर संचालक ने पेड़ नहीं लगवाए।

बाउंड्री वाल की कमी-क्रशर प्लांट के चारों तरफ लगभग पंद्रह फिट की ऊची बाउंड्रीबाल जरूरी है लेकिन चार दिवारी ना होने के कारण बेधड़क प्रदूषण फैल रहा है।

वायुप्रदुषण की रोकथामः क्रशर प्लांटों में कहीं भी वायु प्रदूषण की रोक थाम के लिए संचालकों के द्वारा धूल रोकने के लिए पानी का छिड़काव भी नहीं कराया जा रहा है। वाटर स्पिंकलर ,ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिए क्रसर संयंत्र को दीवार निर्माण कर स्थापित करना चाहिए ,प्रांगण के सभी रास्ते पक्के होना चाहिए किन्तु प्लांट के संचालकों द्वारा नियमों को अनदेखा कर क्रशर प्लांट का संचालन किया जा रहा है।

....

कोतमा जनपद के बिजुरी क्षेत्र में बड़ी संख्या में चल रहे इन क्रशर प्लांटों में यह खामियां व्याप्त है। सभी से बात की जा रही है। निरीक्षण कर जल्द ही नियमों का पालन कराया जाएगा।

-बी एम पटेल पर्यावरण प्रभारी अनूपपुर क्षेत्र

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local