अनूपपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोतमा विकासखंड अंतर्गत ग्राम निगवानी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित है। यहां डाक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ नियुक्त है लेकिन समय पर ड्यूटी पहुंचने में कोताही बरतते हैं। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बुधवार को कर्मचारियों की लापरवाही उजागर हुई। सुबह 10 बजे तक अस्पताल में कर्मचारी नहीं पहुंचे थे। इसी समय एक गर्भवती महिला प्रसव पीड़ा होने पर पहुंची लेकिन अस्पताल में न तो डाक्टर मिला ना ही नर्स। काफी देर बाद एक नर्स पहुंची और उसने महिला को जिला अस्पताल अनूपपुर भेज दिया।

साइकिल से लेकर 20 किमी दूर पहुंचे :

बुधवार ग्राम जर्राटोला निवासी चिंतामणि जायसवाल ने अपनी पत्नी राधा जायसवाल की प्रसव पीड़ा बढ़ने पर सुबह करीब नौ बजे पहले 108 एंबुलेंस को फोन करके बुलाया, लेकिन वाहन न मिलने पर वह साइकिल द्वारा 20 किलोमीटर से निगवानी अस्पताल रवाना हुआ। गांव के नजदीक महिला साइकिल से गिर भी गई थी, तब राहगीरों ने निजी वाहन से महिला और उसके पति एवं बच्चे को अस्पताल लाकर छोड़ा। सुबह करीब 10 बजे अस्पताल आए, लेकिन उन्हें अस्पताल में कोई नहीं मिला। अस्पताल के मुख्य द्वार पर प्रसूता तड़पती रही। लोगों ने आवाज दी, लेकिन सभी कमरों में ताला लटका हुआ था। कोई भी कर्मचारी उस वक्त अस्पताल में नहीं मिला। शोरगुल सुनकर अस्पताल परिसर में रहने वाली एक स्टाफ नर्स पहुंची और जांच के बाद महिला को अनूपपुर रेफर कर दिया। महिला सात माह की गर्भवती थी। अस्पताल में किसी भी कर्मचारी के न रहने पर गंभीर हालत में महिला पहुंची महिला का इलाज करने किसी के न होने पर लोगों ने इस व्यवस्था पर नाराजगी जाहिर की और इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अस्पताल की अव्यवस्था को उजागर किया। बताया गया यहां डा. गणेश पदस्थ हैं, जो कोतमा से आना-जाना करते हैं। मूल रूप से डा. गणेश कोतमा में पदस्थ हैं लेकिन उन्हें निगवानी अस्पताल की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अस्पताल में तीन नर्स और फर्मासिस्ट भी है, लेकिन बुधवार को अस्पताल कर्मचारियों की गैर हाजिरी उनकी लापरवाही को सामने लाया है।

दो दिन में मांगा जवाब :

इंटरनेट मीडिया के माध्यम से मामला सामने आने के बाद खंड चिकित्सा अधिकारी कोतमा केएल दीवान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोतमा द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र निगवानी के समस्त अधिकारियों कर्मचारियों को नोटिस जारी किया है और दो दिन में उपस्थित होकर जवाब मांगा है। पूछा गया है कि अस्पताल परिसर में एक गर्भवती महिला जमीन पर लेटी हुई है और अस्पताल के चैनल गेट खुले हुए हैं लेकिन सभी कमरे बंद नजर आ रहे हैं। कोई भी कर्मचारी दिखाई नहीं पड़ रहा है, इसका जवाब दें।

............

खंड चिकित्सा अधिकारी कोतमा को इस पूरे मामले की जांच के लिए निर्देशित किया गया 3 दिनों में जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है रिपोर्ट के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।-डा. एससी राय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी अनूपपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close