अनूपपुर। जिले में चावल का स्टॉक राशन दुकानों से समाप्त होते ही हितग्राहियों को चावल मिलना बंद हो गया है। जिले में नए 28 हजार पात्रता पर्ची वाले हितग्राहियों के सामने चावल दिए जाने की समस्या भी खाद्य विभाग के सामने आ गई है। एफसीआई के गोदामों में रखे 1लाख 20 हजार क्विंटल चावल के वितरण पर रोक लगने से राशन दुकानों में चावल का संकट गहरा गया है।

पोल्ट्री ग्रेड का मामला सामने आने के बाद भारतीय खाद्य निगम ने अनूपपुर जिले के 13 गोदामों से चावल के 85 सैंपल 2 सितंबर को लिए थे। जिसकी रिपोर्ट अभी तक नागरिक आपूर्ति निगम के पास नहीं आ पाई है। एफसीआई के 3 सरकारी और 10 है निजी गोदामों में 1लाख 20 हजार क्विंटल चावल भंडारित है। जिले के सजहा गोदाम में भंडारित खराब चावल का मामला उजागर होने के बाद संभाग आयुक्त द्वारा गोदामों से चावल के उठाव और राशन दुकानों में वितरण पर रोक लगा दी थी। जो पुराना स्टॉक राशन दुकानों में था वही वितरण हो रहा था जो अब लगभग पूरी तरह से समाप्त हो चुका है। शासन ने नए पात्रता पर्ची वाली हितग्राहियों कुछ चयन कर लिया है जिले में 28000 ऐसे नए हितग्राही अब राशन की पात्रता के लिए हो गए हैं जिन्हें चावल प्रदाय करना मुश्किल होगा। जिले में कुल 1,38,000 राशन उपभोक्ता हैं जिन्हें जिले के 312 दुकानों से राशन उपलब्ध होता है।

8905 मीट्रिक टन चावल का वितरण प्रति माह होता हैः जानकारी अनुसार प्रतिमाह 8905 मीट्रिक टन चावल का वितरण राशन दुकानों के जरिए किया जाता है। गोदामों में रखे चावल की जांच का काम धीमी गति से हो रहा है जिससे वितरण योग्य एवं अपग्रेडेशन के लिए कितना चावल वर्तमान में है यह आंकड़ा नहीं आ पा रहा है जिसकी वजह से राशन दुकानों में वितरण हेतु चावल भेजने की कार्यवाही में देरी हो रही है। भारतीय खाद्य निगम की जांच रिपोर्ट में जिले से लिए गए सैंपल में छह की रिपोर्ट में खाने योग्य चावल नहीं पाया गया है लेकिन यह किन-किन गोदामों में रखे चावल का मामला है नागरिक आपूर्ति निगम जिला कार्यालय में इसकी रिपोर्ट शुक्रवार तक न आने से यह सुनिश्चित नहीं हो पाया है कि किस गोदाम का भंडारित चावल ठीक है। यदि यह रिपोर्ट जल्द आ जाती तो हितग्राहियों को चावल का वितरण का कार्य शुरू किया जाता जिससे राशन दुकानों में जो संकट चावल का रोक लगाए जाने से है वह दूर होता और लोगों को योजना के तहत राशन प्राप्त होता है।

इस संबंध में नागरिक अपूर्ति निगम के जिला प्रबंधक हेमंत तालेगांवकर से पूछने पर उन्होंने बताया कि शनिवार को एफसीआई द्वारा 70 हजार क्विंटल चावल जो गोदामों में भंडारित है वह ठीक पाया है। चावल के वितरण के निर्देश वरिष्ठ अधिकारियों से मिलते ही राशन दुकानों में इस चावल को भेजना सुनिश्चित किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020