अनूपपर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भगवान जगन्नााथ की रथ यात्रा पोंड़की, अमरकंटक में स्थित जगन्नााथ मंदिर से पुरी की तर्ज पर शुक्रवार को निकली। जिसमें इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के समस्त कर्मचारी एवं अधिकारी सहित स्थानीय ग्रामीण भक्तिभाव से शामिल हुए।

ऐसी मान्यता है, कि भगवान जगन्नााथ, बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा अपने भक्तों को दर्शन देते हैं और बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर अपनी मौसी के घर गुंडिचा मंदिर जाते हैं। इस रथ यात्रा में शामिल होने के लिए दूर दूर से भक्त आते हैं। पोंड़की अमरकंटक में स्थित जगन्नााथ मंदिर में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. श्रीप्रकाश मणि त्रिपाठी एवं उनकी पत्नी श्रीमती शीला त्रिपाठी द्वारा पूजन किया गया तत्पश्चात भगवान जगन्नााथ की रथ यात्रा प्रारंभ हुई। भगवान को रथ पर बैठाने से पूर्व मंदिर समिति के अध्यक्ष डा. ए जेना ने सर्वप्रथम भगवान की अर्चना की और कुलपति तथा उनकी पत्नी द्वारा सड़क को झाड़ू लगाने एवं सिंचित करने का कार्य किया गया। रथ पर विराजमान के पश्चात सर्वप्रथम विश्वविद्यालय के कुलपति और उनकी पत्नी द्वारा रथ को रस्सियों के सहारे खींचा गया जिसमें भक्तों के साथ-साथ आस-पास के गांव के नागरिक शामिल हुए। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति द्वारा

जगन्नााथ रथ यात्रा का इतिहास बताया गया कि जगन्नााथ रथ यात्रा का जिक्र पद्म पुराण, नारद पुराण और ब्रह्म पुराण तीनों में मिलता है। पद्म पुराण के अनुसार, भगवान जगन्नााथ यानी श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा उनकी और बलराम, दोनों की लाडली थीं। एक बार सुभद्रा ने दोनों भाइयों से नगर भ्रमण की इच्छा जताई। बहन की इच्छा को वो भला कैसे टाल सकते थे, इसलिए दोनों भाई अपनी बहन को लेकर नगर भ्रमण के लिए निकले।

इस बीच वो अपनी मौसी गुंडिचा के घर पर भी गए और यहां पर उन्होंने सात दिनों तक विश्राम किया। तब से भगवान जगन्नााथ की रथ यात्रा की परंपरा शुरू हो गई। इस यात्रा के दौरान भी प्रभु देवी सुभद्रा और बड़े भाई बलराम के साथ रथों पर सवार होकर नगर भ्रमण करते हुए मौसी के घर यानी गुंडिचा मंदिर जाते हैं। सबसे आगे बलराम का रथ होता है, बीच में बहन सुभद्रा का और सबसे पीछे जगन्नााथ जी का रथ होता है।मौसी के घर पहुंचकर तीनों अपनी मौसी के हाथों से बना पूडपीठा ग्रहण करते हैं और सात दिनों तक वहां विश्राम करते हैं। सात दिनों बाद उनकी वापसी होती है और रथ यात्रा का ये पूरा पर्व 10 दिनों तक चलता है। जगन्नााथ रथ यात्रा का महत्व क्या है, इस पर कुलपति ने कहा कि जगन्नााथ रथ यात्रा में शामिल होना बहुत पुण्यदायी माना जाता है, मान्यता है कि इस यात्रा में शामिल होने मात्र से 100 यज्ञों के समान पुण्य की प्राप्ति हो जाती है। जो लोग भगवान् जगन्नााथ, बहन सुभद्रा, बड़े भाई बलराम का रथ खींचते हैं, उन्हें सौभाग्यवान माना जाता है। मान्यता है कि भगवान के रथों को खींचने से जाने या अनजाने में किए गए सारे पाप नष्ट हो जाते हैं। ऐसा व्यक्ति जीवन के सारे सुखों को भोगता हुआ अंत में मोक्ष को प्राप्त होता है। जगन्नााथ रथ यात्रा का आयोजन मंदिर समिति द्वारा किया गया जिसमें विश्वविद्यालय के शिक्षकगण, अधिकारीगण एवं आसपास के स्थानीय नागरिकों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और भगवान जगन्नााथ जी का रथ खींचा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close