अशोकनगर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में राशन की कालाबाजारी कर गरीबों के हक पर डांका डालने का खेल जारी है। कुछ दिन पहले एक राशन माफिया के पास से बड़ी मात्रा में राशन दुकानों का चावल पकड़ा गया था तो मंगलवार को भी खाद्य विभाग की टीम ने बाजार में बिकने के लिए जा रहे एक राशन माफिया का चावल पिकअप वाहन से पकड़ लिया। वाहन से राशन जब्त कर टीम छानबीन करते हुए राशन माफिया के घर तक पहुंच गई। वहां भी खाद्य विभाग की टीम को अवैध चावल का भण्डारण मिला। उक्त मामले में चावल को जब्त कर वेयरहाउस में रखवाते हुए एक व्यक्ति के खिलाफ प्रकरण बनाकर न्यायालय में पेश किया जा रहा है।

खाद्य निरीक्षक धर्मेंद्र शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि उनको वरिष्ठ अधिकारियों से सूचना मिली कि अवैध रूप से पीडीएस के गेहूं का एक वाहन से परिवहन हो रहा है। सूचना मिलने पर श्री शर्मा जब अपनी टीम के साथ बताए गए स्थान पर पहुंचे तो वहां उन्हें एक बुलेरो पिकअप वाहन जिसका नंबर एमपी 67 जी-1294 खड़ा मिला। जब उन्होंने वाहन के अंदर रखे बोरों में भरे चावल का परीक्षण किया तो वे राशन दुकानों के निकले। पहले तो खाद्य विभाग की टीम को देखकर चालक भाग गया। लेकिन कुछ देर बाद आया तो उससे खाद्य विभाग की टीम द्वारा पूछताछ में उसने उक्त चावल मगरदा रोड निवासी राकेश साहू की दुकान से लाना बताया। इसके बाद टीम ने उक्त चावल को जब्त कर तौल कराई तो करीब 37 क्विंटल चावल निकला। जिसको जब्त कराकर वेयर हाउस में रखवाया गया है। वहीं टीम पूछताछ करती हुई चालक के बताए स्थान पर पहुंची और राकेश साहू की दुकान की पड़ताल की तो दुकान के अंदर भी खाद्य विभाग की टीम को 8.60 क्विंटल चावल मिला तो पीडीएस का निकला। तत्काल उस चावल को जब्त कर राकेश साहू के खिलाफ प्रकरण बनाकर न्यायालय में पेश किया जाएगा। वहीं जब्त किए गए चावल को वेयरहाउस के सुपुर्द किया गया है।

हर बार की तरह माफियाओं का एक ही जवाब

इस बार भी जब चावल पकड़ा गया तो राशन दुकानों को संचालित करने वाले कालाबाजारियों को बचाने के लिए राकेश साहू ने खाद्य विभाग की टीम को चावल ग्राहकों से एकत्रित करना बताया। राकेश साहू ने बताया कि कंट्रोल से चावल खरीदने के बाद उपभोक्ता कम कीमत पर उनको बेंच देते हैं जिसको एकत्रित कर वे बड़े व्यापारी को बेंचते हैं। पूर्व में भी जब चावल पकड़ा हुआ है तो इसी तरह के बयान देते हुए राशन माफियाओं ने बचने का प्रयास किया है।

नहीं है मंडी का लायसेंस

इस तरह से अवैध रूप से राशन की खरीदी करना भी नियम विरुद्ध है। राशन का क्रय विक्रय करने के लिए मंडी द्वारा जारी लायसेंस होना जरूरी है। जब खाद्य विभाग की टीम ने लायसेंस के बारे में जानकारी ली तो संबंधित चावल का मालिक के पास नहीं पाया गया। ऐसे में बगैर लायसेंस के क्रय विक्रय करने का नियम विरूद्ध काम भी दुकानदार करते हुए मिला।

वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सूचना मिलने पर बताए गए स्थान पर जब पड़ताल की तो पिकअप वाहन में पीडीएस का चावल मिला। इसके बाद चावल जहां से वाहन में भरा था उस दुकान पर भी पीडीएस का चावल मिला है। प्रकरण बनाकर न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा।

- धर्मेंद्र शर्मा, खाद्य निरीक्षक, अशोकनगर।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close