अशोकनगर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। बुधवार की रात स्थानीय जैन भवन के सभागार गृह में भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा की ओर से 16वीं बाल एवं किशोर नाटय कार्यशाला का समापन किया गया। इस कार्यक्रम में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले बच्चों ने जनगीत, नाटय, नृत्य की आकर्षक प्रस्तुतियां दी। बच्चों की इस प्रस्तुति को देखकर दर्शक भी अचंभित रह गए। इप्टा के इस 16वीं कार्यशाला के समापन कार्यक्रम का उद्घाटन गुना से आये कवि एवं प्रोफेसर निरंजन श्रोत्रिय ने पोस्टर और चित्रों की प्रदर्शनी का फीता काट कर किया। उद्घाटन के अवसर पर बच्चों ने ए खाक नाशीनों उठ बैठो गीत गाया। यह कार्यशाला पिछले पच्चीस दिनों से निजी स्कूल में लगाई जा रही थी। वहां की समस्त गतिविधियों एवं आज के कार्यक्रम के ब्राशर का अनावरण निरंजन श्रोतिय, अनिल दुबे, सीमा राजौरिया और मनीषा रघुवंशी द्वारा किया गया।इसके बाद छोटी सी बच्ची अवनी दीक्षित द्वारा भरत नाट्यम की शानदार प्रस्तुति प्रदान की गई, फिर सभी बच्चों द्वारा एक गीत 'तू जिंदा है.....' और दूसरी गिरिजा कुमार माथुर की कविता ' छाया मत छूना मन' बच्चों द्वारा गाईं गई। जबलपुर से आये इन्द्र कुमार पांडेय के निर्देशन में तैयार किया गया 'नच नारी' नृत्य किया गया। यह नृत्य दर्शकों द्वारा बेहद पसंद किया गया। अब बारी आती है छोटे बच्चों के नाटक की जिसका नाम था 'गिरगिट'। जो कि अंतोन चेखब की कहानी पर आधारित है छोटे छोटे बच्चों द्वारा खेले गये इस नाटक का प्रदर्शन भी लाजवाब रहा। इसके बाद 'ढिमरयाई सामूहिक नृत्य का आयोजन हुआ। इसकी बस्त्र सज्जा की खूब तारीफ हुई। सबसे अंत में सागर से आये युवा निदेर्शक आदित्य निर्मलकर के निर्देशन में तैयार नाटक जो कि गणेश शंकर विद्यार्थी एवं पत्रकारिता पर आधारित था 'प्रताप' का प्रदर्शन किया गया।कार्यक्रम का संचालन इप्टा के सचिव अभिषेक अंशु ने किया और सभी का आभार प्रदर्शन इप्टा की अध्यक्ष सीमा राजौरिया ने किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close