नईसराय। जिले में स्कूली वाहनों का परीक्षण न होने के कारण कंडम वाहनों में बच्चें सफर कर रहे हैं। इसके चलते स्कूल जाने से घर आने तक बच्चों के सफर में खतरा बना रहता है। गुरुवार को इसी तरह की घटना नईसराय क्षेत्र में हुई जहां एक स्कूल वाहन अनियंत्रित होकर पलट गया। इस घटना के समय वाहन में सिर्फ दो ही बच्चे सवार थे जो बाल-बाल बच गए। जिले में कंडम वाहानों का संचालन होने के बाद भी स्कूली वाहनों पर कार्रवाई नहीं हो पा रही है। गुरुवार को कस्बे के डुंगासरा रोड पर संचालित बालक येशु कन्वेंट स्कूल का बोलेरो वाहन स्कूल की छुट्टी के बाद बच्चों को छोड़ने के लिए छापर गांव जा रहा था। इसी दौरान रुसल्ला और छापर के बीच वाहन अनियंत्रित होकर पलट गया । दुर्घटना का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वाहन के सामने आया एक बबूल का पेड़ वाहन से टकराने के बाद जमींदोज हो गया। साथ ही वाहन उलटता हुआ सड़क किनारे खेत मे जा गिरा। दुर्घटना के बाद वाहन चालक वाहन को छोड़कर फरार हो गया। सूचना मिलते ही तहसीलदार दीपेश धाकड़, नायब तहसीलदार मस्तराम गुर्जर और पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक ग्रामीण बच्चों को वाहन से निकाल चुके थे। उल्लेखनीय है कि ज्यादातर निजी स्कूल में बच्चों को लाने ले जाने का काम कंडम वाहन कर रहे हैं। कई वाहन तो रसोई गैस से संचालित हो रहे हैं। बाबजूद इसके परिवहन विभाग ने अब तक किसी भी तरह की कार्रवाई नही की। सूत्रों की माने तो घरेलू गैस से संचालित वाहन बच्चों से कम किराया लेते हैं। इसी मुनाफा को देखते हुए पालक भी किसी तरह की शिकायत अधिकारियों से नही करते। वहीं वाहन चालक भी ज्यादा लाभ कमाने के चक्कर में नौनिहालों को भेड़ बकरियों की तरह वाहनों में बैठाकर स्कूल छोड़ते हैं । दुर्घटना में मामूली रूप से घायल छात्रा पूर्वी ने बताया कि दुर्घटना के समय बस में सिर्फ दो ही बच्चे थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close