अशोकनगर शहर की बोहरे कॉलोनी का मामला, आधा किमी दूर तक सुनाई दी आवाज

खाली प्लाट में पहले पटाखे बनाने का चलता था काम

गंभीर रूप से जलने के बाद उन्हें जिला अस्पताल लाए जहां से घायलों को भोपाल रेफर किया

प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे, विस्फोट के कारणों का नहीं चला पता

अशोकनगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

शहर की बोहरे कॉलोनी में उस समय हड़कंप मच गया जब शहर में गश्त दे रही पुलिस और प्रशासन के अमले को जानकारी मिली कि एक खाली पड़े प्लाट में तेज आवाज के साथ बम फट गया है। इस घटना के बाद प्रशासन की गाड़ियां घटनास्थल की तरफ दौड़ती नजर आईं। खाली प्लाट की सफाई के दौरान हुए विस्फोट में दो युवक बुरी तरह से झुलस गए। दूर तक हुई इस विस्फोट की आवाज के बाद घटनास्थल पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। दोनों घायलों की हालत गंभीर होने के कारण उन्हें डॉक्टरों की सलाह पर उपचार के लिए भोपाल ले जाया गया है। सिटी कोतवाली धमाके के कारणों की जांच में जुटी है।

रविवार की सुबह 9ः30 बजे यह घटना उस समय हुई जब आशिक खां के 2 मकानों के बीच खाली पड़े इस प्लाट की सफाई की जा रही थी। यह सफाई का काम आशिक खां पुत्र अश्फाक उम्र 17 वर्ष और रामसिंह पिता करतार सिंह अहिरवार उम्र 38 वर्ष द्वारा की जा रही थी। रामसिंह अहिरवार का निवास भी पड़ोस में ही है। बताया गया है कि यहां बकरी बांधने के लिए सफाई का काम चल रहा था। युवक सफाई करने के बाद जब कचरे में आग लगा रहे थे उसी दौरान तेज धमका हुआ। यह धमका इतना तेज था कि आधा किमी दूर तक उसकी आवाज सुनाई दी। विस्फोट की इस घटना के बाद सफाई कर रहे दोनों युवक बुरी तरह से झुलस गए। आसपास के लोग जब धमाके की आवाज के बाद मौके पर पहुंचे तो दोनों युवक गंभीर रूप से जली हुई अवस्था में पड़े थे। तत्काल पुलिस प्रशासन और एम्बुलेंस को सूचना दी गई।

इस घटना के बाद लोगों की भीड़ मौके पर पहुंचना शुरू हो गई। इसी बीच जब एम्बुलेंस नहीं आई तब दोनों घायलों को बारी-बारी से मोटरसाइकिल पर बिठाकर जिला अस्पताल भेजा गया जहां वह बुरी तरह झुलस गए थे। जिनका उपचार जिला अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा किया गया, लेकिन गंभीर रूप से इस विस्फोट की घटना में झुलसने के बाद दोनों घायलों को भोपाल भेजा गया है। उधर दूसरी ओर घटना के बाद सबसे पहले मौके पर तहसीलदार इशरार खान पहुंचे। उन्हें किसी पटवारी के माध्यम से सूचना मिली थी वह शहर भ्रमण पर थे। इसके बाद एसडीएम सुरेश जाधव, नायब तहसीलदार रोहित रघुवंशी, सिटी कोतवाली के टीआई उपेंद्र भाटी, उप-निरीक्षक संजय राय आदि पहुंचे और भीड़ को रोकने का प्रयास किया। किन्तु भीड़ जैसे-जैसे आती जा रही थी वैसे-वैसे भीड़ को भगाना मुश्किल हो रहा था। जिला अस्पताल में इन घायलों के पहुंचने के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जसराम त्रिवेदिया, सिविल सर्जन डॉ. हिमांशु शर्मा भी मौके पर पहुंचे और उपचार के प्रबंधों का जायजा लिया।

इस घटना के बाद किसी को समझ में नहीं आया कि आखिर यह विस्फोट किन कारणों से हुआ है। सबका अपने-अपने मत थे किन्तु इस घटना के बारे में बताया गया है कि आशिक खा द्वारा यह प्लाट कुछ महीनों पहले इकरार खां से खरीदा था। बताया जाता है कि यहां खंडहरनुमा स्थान था। दोनों तरफ मकान बने हुए हैं। इस स्थान पर पूर्व में देशी पटाखे बनाए जाते थे। समझा जाता है कि इन पटाखे बनाने के बाद बची हुई बारूद को इसी स्थान पर फेंक दिया गया होगा जिसके बाद यहां एकत्रित हो गई थी। बाद में जब सफाई की गई और उसी दौरान बारूद में आग लग जाने के कारण यह विस्फोट हुआ है। इन्हीं कारणों को देखते हुए सिटी कोतवाली पुलिस द्वारा घटना स्थल पर मिट्टी के सैंपल लिए गए हैं। जिसमें वह राख भी शामिल है जिसके बाद यह पता लगाया जाएगा कि आखिर किन कारणों से यह विस्फोट हुआ।

तैयारियों के बाद भी एम्बुलेंस क्यों नहीं पहुंची

जब इस घटना में दोनों घायलों को एम्बुलेंस मांगने के बाद भी नहीं मिली तो उन्हें घटना स्थल से जिला अस्पताल बाइक पर बिठाकर ले जाना पड़ा। जिस जगह यह घटना हुई है उस बोहरे कॉलोनी में लगभग 800 से 1000 मकान हैं। सकरी गलियां होने के कारण लोगों को निकलने में भी परेशानी होती है।

क्या कहना है इनका

बोहरे कॉलोनी में यह घटना प्लाट की सफाई करने के दौरान हुई। यहां विस्फोटक सामग्री कहां से आई इसका कोई अता-पता नहीं है। इसका पता लगाया जा रहा है। घायलों को जिला अस्पताल में लाया गया था, लेकिन बाद में उन्हें भोपाल रवाना किया गया है।

सुरेश जादव, एसडीएम

कचरे की सफाई करते समय अचानक विस्फोट हो जाने के कारण रामसिंह उम्र 38 वर्ष और अश्फाक उम्र 17 वर्ष घायल हो गए हैं। दोनों को उपचार के लिए भेजा गया है। अभी तक यह पता नहीं चला है कि यह घटना कैसे हुई। घायल के पिता ने कहा है कि उन्होंने यह प्लाट किसी और से खरीदा था। इसकी पूरी जांच पड़ताल की जा रही है।

उपेन्द्र भाटी, नगर निरीक्षक सिटी कोतवाली

................................

फोटो107ए- वह स्थान जहां विस्फोट की घटना हुई।

फोटो107बी- पुलिस घटना स्थल से राख और मिट्टी को परीक्षण के लिए भेजने की तैयारी करते हुए।

फोटो107सी- घटना स्थल पर लोगों को रोकते हुए पुलिस।

फोटो107डी- घटना के मामले में आसपास के लोगों से जानकारी जुटाती हुई पुलिस।

फोटो107ई- मौके पर सबसे पहले तहसीलदार पहुंचे और भीड़ ने उन्हें घेर लिया।

फोटो107एफ- घटना में झुलसा रामसिंह अहिरवार।

फोटो107जी- अश्फाक खां।

Posted By: Nai Dunia News Network