दुकानों के बाहर रखा सामान हटाया, व्यापारी ने नाराजगी जताई, कई दुकानदारों पर नपा ने जुर्माना लगाया

अशोकनगर। नवदुनिया प्रतिनिधि

मिशन क्लीन 2020 को लेकर अशोकनगर शहर को सुंदर बनाने के लिए नपा और प्रशासन की ओर से एक संयुक्त मुहिम चलाई गई। इस मुहिम की शुरुआत शहर में वार्ड क्रमांक 19 से की गई जो शहर के व्यापारिक स्थलों में से एक है। इस दौरान जो भी सामान दुकानों के बाहर मिला उन्हें हटाने की कार्रवाई की गई। कुछ दुकानदारों को शाम तक का मौका दिया। एक नमक व्यापारी ने इसका विरोध किया। उसकी प्रशासन के साथ तीखी तकरार हुई और इस दौरान वह धक्का-मुक्की के दौरान जमीन पर आ गिरा। इस दौरान पूरे वार्ड में लगभग 19 गलियों का भ्रमण किया गया। इस दौरान कई लोगों पर जुर्माना लगाया गया।

अशोकनगर शहर के वार्ड क्रमांक 19 में वह इलाका आता है जो शहर का मुख्य भाग माना जाता है। जिसमें स्टेशन रोड़, सुभाषगंज और सदर बाजार शामिल है। प्रशासन और नपा की ओर से दो दिन पहले ही सभी नागरिकों को आगाह किया गया था कि मिशन क्लीन के अंतर्गत इस हिस्से को साफ-सुथरा बनाया जाना है। सभी से आव्हान किया गया था कि वह अपनी दुकानों के बाहर सामान न रखें। इसके बाद प्रशासन का अमला रविवार को कलेक्टर डॉ. मंजू शर्मा की अगुवाई में इस वार्ड का अवलोकन करने पहुंचा। इस दौरान विधायक जजपालसिंह, जिपं सीईओ अजय कटेसरिया, अपर कलेक्टर डा अनुज रोहतगी, एसडीएम सुरेश जादव, तहसीलदार इशरार खान, सीएमओ शमशाद पठान, शहरी विकास अधिकारी बीडी कतरोलिया आदि शामिल थे।

सुभाषगंज में कई अतिक्रमण हटाए गए और ट्रांसपोर्टरों के संबंध में भी निर्देश दिए गए

गांधी चौक से इस अभियान की शुरूआत की गई। सबसे पहले महात्मा गांधी के स्मारक पर पुष्प मालाएं अर्पित की गयीं। जिसके बाद सदर बाजार से प्रशासन का यह अमला निकला। इस दौरान जिन दुकानों के बाहर दुकानदारों की सामग्री रखी थी उसे हटवाने के निर्देश दिए। चेतावनी के बाद भी संबंधित अतिक्रमण न हटाए तो उस पर आर्थिक दंड के साथ सामान जब्त किया जाए। सदर बाजार में दुकानों के बाहर छांव के लिए लगाए गए तिरपालों को हटाने के निर्देश भी दिए गए। सुभाषगंज में पहुंचते ही यह अमला पूर्व में बनाई गई प्याऊ के समीप बने शौचालय को पुनः निर्माण करने के निर्देश दिए व उस स्थान से अतिक्रमण हटाने के निर्देश भी दिए। इस दौरान ट्रांसपोर्टरों ने कहा कि उन्हें बाहर जमीन प्रदान की जाये और ट्रांसपोर्ट नजर बनाया जाए। कलेक्टर ने कहा कि इस संबंध में प्रशासन द्वारा स्थान का निरीक्षण किया जाएगा।

नमक व्यापारी ने नाराजगी जताई, धक्का-मुक्की के बाद व्यापारी जमीन पर गिरा

इसी दौरान सुभाषगंज में बनाए गए फुटपाथ पर व्यापारियों द्वारा रखे गए सामान को देखकर कलेक्टर ने कहा कि दुकानदारों द्वारा नपा की जमीन का उपयोग किया जा रहा है। इस सामान को यहां से हटाया जाए। इस दौरान एक नमक व्यापारी द्वारा कहा गया कि उसे शाम तक का मौका दिया जाए। किन्तु जब नपा का अमला बोरियों को उठाने लगा तब नमक व्यापारी कलेक्टर से शिकायत करने पहुंचा। इसके बाद सीएमओ शमशाद पठान ने उक्त व्यापारी से कहा कि वह तरीके से बात करें। इसके बाद व्यापारी से धक्का-मुक्की हुई और वह जमीन पर गिर गया। इस दौरान उन्होंने कहा कि शहर में ट्रकों की आवाजाही होती है इसे रोकने के लिए इस तरह की व्यवस्था की जाए कि लोडिंग वाहन शहर में न आ सकें। इस दौरान सभी ट्रांसपोर्टरों को कहा गया कि आगे से वह अपना सामान या तो गोदाम में खाली करें या बाहर ले जाएं।

25 दुकानदारों पर 5-5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया

इस अभियान के दौरान जब सुभाषगंज में प्रशासन का अमला आगे की ओर बढ़ रहा था तब उनका ध्यान कीर्ति स्तम्भ की ओर गया। जहां पार्क बना हुआ है। इस पार्क को चारों ओर से अतिक्रमण से ढ़ककर रखा गया था। इस दौरान उन्होंने सभी दुकानदारों का सामान वहां से हटाने के निर्देश दिए। कई दुकानदारों का अतिक्रमण सामग्री भी जब्त की गयी। उन्होंने पार्क के अंदर जाकर देखा और कहा कि किसी को पता ही नहीं था कि यहां पार्क है। इस पार्क के अंदर से जहां-जहां से पत्थर उखड़ रखे थे उन पत्थरों को दुरूस्त करने के निर्देश सीएमओ को प्रदान किए गए। इस दौरान डॉ0. अनुज रोहतगी ने भी कई दुकानदारों को इस तरह अतिक्रमण करने पर डांट पिलाई। इस दौरान 25 दुकानदारों की 5-5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया और कहा कि जो पैसा वसूली में आया उसे इस वार्ड के रख-रखाव पर खर्च किया जाए।

आबकारी विभाग के गोदाम परिसर को शहर से बाहर भेजने का निर्णय लिया

जहां आबकारी विभाग की गोदाम परिसर का निरीक्षण किया गया। यहां मौजूद कर्मचारियों से कहा गया कि वह परिसर की साफ-सफाई रखें। यूनियन बैंक के सामने बिजली के पोल को देखकर विधायक जजपाल सिंह ने विद्युत वितरण कम्पनी के कार्यपालन यंत्री को बताया कि इस बिजली के खंभे से यहां से निकलने वाले यात्री या वाहन ट्रक से टकराकर घायल हो सकते हैं। पूरे तार खुले पड़े हुए हैं। ऐसे बिजली के खंभे शहर में नहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में भी आसानी से नहीं देखे जा सकते। इन खंभों के पास सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए जाएं। यहां से यह कार्रवाई समाप्त की गई। विधायक ने इस दौरान कलेक्टर से कहा कि आबकारी विभाग यहां वर्षों से है। इस आबकारी विभाग को यदि शहर से बाहर स्थानांतरित कर दिया जाए और इस स्थान को नपा को सौंप दिया जाए तो इस जगह का उपयोग शहर में बेहतर ढंग से हो सकता है, लेकिन नपा को पहले उक्त स्थान पर भवन बनाकर देना होगा। जिसे भी कलेक्टर द्वारा निगरानी में लिया गया है।

वार्ड पार्षद ने कहा- उन्हें सूचना नहीं भेजी

वार्ड 19 की पार्षद मोनिका भट्ट ने कहा कि जो साफ-सफाई का निरीक्षण का काम किया गया है वह महत्वपूर्ण साबित हुआ है। किन्तु उन्हें नपा द्वारा कोई सूचना नहीं दी गई। कुछ हिस्से में ही सफाई दिखाकर उन्हें संतुष्ट कर दिया गया। बहुत से हिस्से ऐसे है जहां गंदगी पसरी है। अतिक्र्रमण हटाने से पहले प्लानिंग की जाना चाहिए थी ताकि दुकानदार अपना सामान पहले से हटा लेते। उनका कहना है कि उनके द्वारा अनेकों बार उनके वार्ड में शुलभ शौचालय, अतिक्रमण, साफ-सफाई आदि को लेकर नगरपालिका सीएमओ को कई पत्र दिए जा चुके है, लेकिन आज तक उन पत्रों को संज्ञान में नहीं लिया गया है।

............................

फोटो249ए- कलेक्टर के साथ विधायक एवं अन्य प्रशासनिक अधिकारी सुभाषगंज पर कार्रवाई करते हुए।

फोटो249बी- जैन समाज के पार्क में अवलोकन के दौरान दुरुस्तीकरण के निर्देश देते हुए कलेक्टर।

फोटो249सी- नमक की बोरियां हटाने के मामले में नमक व्यापारी नाराजगी दिखाते हुए।

फोटो249डी- जेसीबी मशीन नमक की बोरियां उठाकर ले जाते हुए।

फोटो249ई- सुभाषगंज में जहां भी सामग्री बाहर रखी मिली नपा का अमला अपने साथ ले गया।

फोटो249एफ- आबकारी विभाग के शहर में स्थित स्थान का निरीक्षण करते हुए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना