अशोकनगर। नवदुनिया प्रतिनिधि स्थानीय न्यायाधीश प्रिया गुप्ता ने आरोपित हरवीर पुत्र ख्यालीराम उम्र 34 वर्ष, किशन पुत्र ख्यालीराम उम्र 29 वर्ष निवासी घुरवारकला थाना नईसराय, जिला अशोकनगर को विचारणीय मामले में आरोपित को अपराध में दोषसिद्ध पाते हुए 6-6 माह का कठोर कारावास एवं 1000-1000 रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है।

पैरवीकर्ता सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी मंयक गोयल एवं मीडिया अभियोजन अधिकारी संजयशंकर पाल ने घटना के बारे में बताया कि 25 सितंबर 2009 को फरियादी आरक्षक विनय कुमार को थाना कोलारस जिला शिवपुरी से कर्तव्य प्रमाण पत्र देकर किसी अन्य अपराध के बाल न्यायालय शिवपुरी का नोटिस लेकर तामीली के लिए बदरवास विजरोली थाना रवाना किया गया था। उक्त दिनांक को उक्त नोटिस की तामीली के लिए जब फरियादी बादरवास आया तो बदरवास में नोटिस में उल्लेखित व्यक्ति को तलाश किया तो वह नहीं मिला। फरियादी आरक्षक विनय कुमार को रास्ते में सिविल ड्रेस में आरक्षक रवि सूर्यवंशी मिला जिसके साथ वह समन नोटिस की तामीली कराने के लिए ग्राम विजरौली जा रहा था। तभी रास्ते में बड़ी घुरवार में आरोपित हरवीर जाटव उसके घर के सामने मिला तो दोनो आरक्षकों ने बिजरोली जाने का रास्ता पूछा, तो हरवीर चिल्लाने लगा कि पुलिस उसे पकड़ने आई है। इतने में एक लड़की आ गई और चिल्लाने लगी और आरक्षक विनय कुमार से बोली कि तुम मेरे भाई को पकड़कर नहीं ले जा सकते । जब फरयादी ने कहा कि हम तो समन तामीली कराने आए हैं। पकड़ने नहीं आए हैं। इतने में एक वृद्व व्यक्ति और एक जवान लड़का आ गया और चारों आरोपित फरियादी से झूमा-झटकी करने लगे तथा फरियादी की वर्दी की कॉलर पकड़ ली। तब आरक्षक रवि ने छुड़ाया । आरोपित हरवीर ने आरक्षक रवि को दाहिनी भुजा में काट लिया तथा फरियादी आरक्षक विनय कुमार को भी दाहिने हाथ के बीच वाली उंगली में चोट आई जिसके कारण पुलिस आरक्षक समन नोटिस की तामीली कराने नहीं जा सके और उनके शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाई गई। फरियादी द्वारा थाना बदरवास में उक्त घटना के संबंध में एक लेखीय आवेदन प्रस्तुमत किया गया जिस पर थाना नईसराय में अभियुक्तत के विरुद्घ मूल अपराध पंजीबद्व किया गया। उक्त प्रकरण में न्यागयालय द्वारा विचारण करते हुए अभियोजन के द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य एवं तर्कों से सहमत होते हुए अभियुक्तों को दोषी पाया और उक्त सजा से दंडित किया। न्यायालय द्वारा अभियुक्तों पर अधिरोपित अर्थदंड की राशि में से 1000-1000 रुपए प्रतिकर स्वरूप फरियादियों को दिलाने का आदेश दिया है।

.................................

खबर नं.5

राजीनामा न करने पर आरोपित द्वारा मारपीट करने पर 10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000 रुपए के अर्थदंड की सजा

अशोकनगर।नवदुनिया प्रतिनिधि स्थानीय अपर सत्र न्यायाधीश अशोकनगर द्वारा आरोपित रामसिंह उम्र 52 वर्ष पिता जगन्नाथ कुशवाह निवासी ग्राम डुंगासरा थाना नईसराय जिला अशोकनगर को धारा 326 भादसं में 10 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000 रू. के अर्थदंड की सजा सुनाई गई है।

प्रकरण में शासन की ओर से पैरवीकर्ता अभियोजन अधिकारी इंदिरा चौहान अपर लोक अभियोजक व सहायक मीडिया प्रभारी रीना शिवहरे ने बताया कि घटना 08 अगस्त 2012 की है। थाना नईसराय में यह सूचना मिली थी कि ग्राम डुंगासरा में फरियादी यशवंत के साथ अभियुक्त द्वारा मारपीट करने व बलवा करने के साथ यशवंत पर लाठी से हमला करने एवं रामसिंह द्वारा कुल्हाड़ी से मारपीट करने तथा राजीनामा न करने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी। आरोपितों द्वारा फरियादी को अश्लील गालियां दी गई थीं जिस पर से नईसराय पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया था। उक्त मामले की सुनवाई करते हुए न्यायालय द्वारा अभियुक्त के विरुद्ध विचारण किया गया। न्याायालय ने अभियोजन द्वारा प्रस्तुत किए गये साक्ष्यों एवं तर्कों से सहमत होते हुए आरोपित रामसिंह को धारा 326 भादवि के अपराध में दोषी पाते हुए दंडित किया। वर्तमान में अभियुक्त पूर्व में किए धारा 302 भादसं के अपराध में केंद्रीय कारागर ग्वालियर में निरुद्ध है । अभियुक्त पर अधिरोपित अर्थदंड की राशि में से 1000 प्रतिकर स्वरूप फरियादी को देने का आदेश दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network