अशोकनगर। जिला अस्पताल में कोरोना संक्रमण के चलते आये दिन मरीजों की मौत हो रही है। जिन मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आती है या फिर उनमें कोरोना के संक्रमित लक्षण होना पाए जाते है ऐसे मरीजों का अंतिम संस्कार कोरोना पद्धति से किया जा रहा है। गुरूवार को एक मरीज की मौत के बाद जब परिजनों ने मृतक का शव अपने घर ले जाने की जिंद की। जब शव परिजनों को नहीं सौंपा गया तब परिजनों ने हंगामा किया। दो घंटे तक यह विवाद चलता रहा। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद शव वाहन को शमशान घाट के लिए रवाना किया गया।

मामला सुबह 8 बजे का है। यहां मरीज की मौत के बाद मृतक का अंतिम संस्कार कोरोना पद्धति से किया जाना था किन्तु परिजन इस बात पर अडे थे कि वह मृतक का शव घर ले जाएंगे। लेकिन संक्रमण फैलने का खतरा होने की वजह से ऐसे मरीजों के परिजनों को मृतकों के शव प्रदान न कर शव वाहन से पीपीई किट में पैक कर मुक्तिधाम भेजे जाते है। इस घटना में भी परिवारजनों को लगातार समझाया जाता रहा लेकिन परिजन मानने तैयार नहीं थे पुलिस ने लगातार समझाने के बाद बमुश्किल शव को शव वाहन में रखकर मुक्तिधाम तक पहुंचाया।

आनंदपुर ट्रस्ट द्वारा भी ऐसे परिवार जिनके पास कोई संसाधन नहीं है उनके लिए एक ट्रक लकडी शमशान घाट पहुंचायी है जिसे पुराने वाटर बक्श में नगरपालिका प्रशासक सीएमओ पीके सिंह को सौंपा गया था। वहीं दूसरी ओर गोपाल गौशाला के सदस्यों की अनुमति से आरएसएस के स्वयं सेवक अशोक सोनी की पहल पर गौशाला द्वारा 10 हजार कंडे भी दाह संस्कार के लिए चार नगरपालिका के डम्फरों में भरकर शमशान घाट पहुंचाये गए है जिससे शव दाह संस्कार में जरूरतमंदों को यह सामग्री उपलब्ध कराई जा सके।

एडिशनल एसपी ने लोगों से अपील की

इस तरह के मामलों को लेकर अशोकनगर जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप पटेल ने नागरिकों से आव्हान किया है कि आये दिन एक न एक कोविड मृत्यु होने के पश्चात उनके परिवारजनों द्वारा शव को अंतिम संस्कार हेतु सीधे मुक्तिधाम ले जाने के स्थान पर कुछ संस्कार करने के नाम पर उनके घर ले जाने की जिद की जाती है। यह जिद न केवल अनपढ, कम पढे लिखे अपितु प्रबुद्ध लोगों में भी देखी जा रही है। इसी दौरान पुलिस, प्रशासन व मीडिया के अधिकतम लोगों के संपर्क में आ जाते है जिसमें विधायक भी कई बार संपर्क में रहते है इससे संक्रमण फैलने की आशंका रहती है। परिजनों को समझना चाहिए कि उनकी यह जिद घर परिवार के अन्य सदस्यों व आस पडोस के लोगों पर भारी पड सकती है इसलिए सकारात्मक पहल का परिचय लोगों को देना चाहिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags