अशोकनगर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में राशन माफियाओं द्वारा गरीबों को बांटने के लिए आने वाले राशन में गड़बड़ियां की जा रही हैं। इससे हितग्राहियों को राशन नहीं मिल पा रहा है, जबकि राशन माफिया उनके हक का राशन डकार रहे हैं। ऐसा ही मामला सींगाखेड़ी ग्राम पंचायत में संचालित हो रही अमरोद सिंगराना की कंट्रोल दुकान का सामने आया है। यहां संचालक ने हितग्राहियों से अंगूठा लगवा लिया और उन्हें तीन-तीन माह का राशन नहीं दिया है। यह स्थिति तब है, जब कलेक्टर अभय वर्मा खुद इन पर सख्त हैं। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि राशन की गड़बड़ी करने वालों पर एफआइआर कराई जाए। इस मामले की शिकायत ग्रामीणों द्वारा फूड ऑफिस कार्यालय में की थी, लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकल सका। जिसके बाद ग्रामीण कलेक्ट्रेट पहुंचे, जहां उन्होंने तहसीलदार रोहित रघुवंशी को आवेदन देकर राशन दिलाने की मांग की है। हितग्राही अनिल रघुवंशी ने बताया कि हम सभी ग्राम पंचायत सींगाखेड़ी के निवासी हैं। हमें अमरोद सिंगराना की कंट्रोल दुकान से राशन मिलता है, पर पिछले तीन माह से राशन नहीं मिला है, जबकि कोरोना के कारण इस समय सबसे ज्यादा राशन की जरूरत है। उन्होंने बताया कि सेल्समैन बंटी रघुवंशी गांव में आया एवं कोरोना का हवाला देकर बताया कि दुकान पर भीड़ पड़ेगी, इसलिए आप यहीं पर अंगूठा लगा दो। बंटी ने सभी लोगों को 15 दिन में राशन मिलने का आश्वासन दिया था। इस कारण लोगों ने विश्वास में आकर अंगूठा लगा दिया। धन्नाालाल, पन्नाालाल, बालकिशन, दीपक, रघुवीर नवल, पवन, रणवीर आदि ने बताया कि हम कई बार किराया के ट्रैक्टर-ट्राली लेकर सींगाखेड़ी से अमरोद पहुंचे पर हर बार दुकान बंद मिली। पता चला है कि संचालक दुकान बंद कर भाग गया है। ग्रामीणों ने तीन-तीन माह का राशन दिलाने व संचालक पर कार्रवाई की मांग की है।

एसडीएम ने कराई थी एफआइआर

जिले में राशन में गड़बड़ी का यह एक और मामला उजागर हुआ है। इससे पहले भी सेवा सहकारी संस्थान खेजराकला में प्रबंधक समेत तीन लोगों पर एफआइआर कराई थी। यहां भी ग्रामीणों के हक का मई का राशन कागजों में ही वितरित कर दिया गया था। इसके अलावा एसडीएम रवि मालवीय ने अन्य दुकानों की भी जांच की थी, उन पर भी कार्रवाई प्रस्तावित है। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर अभय वर्मा ने निर्देश दिए हैं कि राशन में गड़बड़ी करने वालों एफआइआर कराई जाए।

करीब बीस हितग्राहियों ने सींगाखेड़ी से आकर शिकायत की है कि उन्हें तीन माह का राशन कंट्रोल दुकान से नहीं मिला है। ग्रामीणों की शिकायत के बाद जिला खाद्य अधिकारी श्री चौहान ने फूड इंस्पेक्टर से जांच करने को कहा है। जांच के बाद जो भी सामने आएगा, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

- रोहित रघुवंशी, तहसीलदार

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags