मुंगावली में आउटर सिग्नल मिला युवक का शव

बीना-गुना ट्रेन से शव लेकर जीआरपी अशोकनगर पहुंची

अशोकनगर। नवदुनिया न्यूज

मुंगावली रेलवे स्टेशन के आउटर सिग्नल के समीप एक युवक का शव मिलने की सूचना जीआरपी को मिली थी। पुलिस मौके पर पहुंची और शव बीना-गुना ट्रेन से अशोकनगर स्टेशन लाया गया। बाद में हाथ ठेले पर रखकर शव को जीआरपी थाने के बाहर खड़ा कर दिया गया। इसके बाद रेलवे क्रासिंग के गेट तक शव को हाथ ठेले पर ले जाया गया और पटरी पार करने के लिए स्ट्रेचर पर शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया।

जानकारी अनुसार जीआरपी को सूचना मिली थी कि मुंगावली में आउटर सिग्नल के पास एक अज्ञात युवक का शव पड़ा है। मृतक का चेहरा पूरी तरीके से छत-विक्षप्त हो गया था। उसकी पहचान कर पाना मुश्किल था। इसके बाद शव का पंचनामा तैयार कर शव अज्ञात होने से उसे बीना-गुना ट्रेन से लगेज के डिब्बे में रखकर अशोकनगर लाया गया। इसके बाद शव को लगेज के डिब्बे से स्ट्रेचर पर रखने के लिए हाथ ठेले का सहारा लिया गया। शव जीआरपी थाने के बाहर स्ट्रेचर के साथ हाथ ठेले पर लगभग 45 मिनट तक रखा रहा। यहां जीआरपी नो मृतक के कपड़ों की तलाशी ली। इसके बाद आधारकार्ड मिलने पर पुलिस ने जब उसमें उल्लेखित जानकारी के आधार पर मृतक की शिनाख्त के प्रयास किए तो मृतक बहादुरपुर थाने के अंतर्गत बहादुरपुर के वार्ड क्रमांक 5 निवासी मनोज पिता सुरेश सेलर उम्र 26 वर्ष बैंक की कियोस्क शाखा पर कार्यरत होना पाया गया। मृतक का बड़ा भाई मोहन सेलर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बहादुरपुर में भृत्य के पद पर पदस्थ है। जीआरपी ने जब जानकारी दी गई उसके बाद उसके परिजन अशोकनगर पहुंचे। इस दौरान जीआरपी शव को हाथ ठेले से रेलवे क्रासिंग के गेट तक ले गई और उसके बाद स्ट्रेचर पर शव रखकर पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया। इस दौरान मृतक के शव को ढंकने के लिए प्लास्टिक की कट्टी का सहारा लिया गया। यहां भी मानवीय संवेदनाएं आहत होती देखी गई।

मुंगावली में नहीं हुआ पीएम

जब किसी मृतक का शव मिलता है और उसकी शिनाख्त नहीं हो पाती है तब अज्ञात शव होने की वजह से जिला अस्पताल के पोस्टमार्टम कक्ष में ही लाया जाता है। उसे 72 घंटे तक एसी में रखा जाता है ताकि उसकी शिनाख्त इस अवधि में हो सके। इस कारण मृतक का पोस्टमार्टम मुंगावली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर नहीं कराया गया। इस तरह की घटनाओं में शव को अज्ञात होने के कारण जो भी ट्रेन उपलब्ध होती है उसके लगेज के डिब्बे में रखकर लाया जाता है।

जेबीएस परमार, थाना प्रभारी जीआरपी अशोकनगर

फोटो145- मृतक के शव को जीआरपी थाने के बाहर हाथ ठेले पर ट्रेन से उतारकर लाया गया।