गुना/आरोन। नवदुनिया प्रतिनिधि

मुआवजा और बेतहाशा बढ़े हुए बिजली बिलों सहित किसान हितैषी मांगों को लेकर पूर्व मंत्री व राघौगढ़ विधायक जयवर्द्धन सिंह ने गुरूवार को आरोन से जिला मुख्यालय तक 35 किमी लंबी पदयात्रा शुरू की। इसके दो पड़ाव रखे गए हैं, जिसमें पहला पड़ाव सेमरी मंदिर तक हुआ, जिसके अगले दिन शुक्रवार को कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा जाएगा। खास बात यह कि बारिश के बीच निकली पदयात्रा में शामिल लोगों के जोश में कोई कमी नहीं आई।

सबसे पहले आरोन के सनकादिक आश्रम पर जयवर्द्धन सिंह ने भगवान के दर्शन किए, जिसके बाद सुबह 11 बजे पदयात्रा शुरू हुई। इसका उद्देश्य आरोन क्षेत्र में हुई ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को अब तक मुआवजा न मिलना है, तो बिजली बिल भी वर्तमान में बड़ा मुद्दा बन गया है। पदयात्रा स्टेट हाईवे होते हुए आगे बड़ी, जिसमें बड़ी संख्या में कांग्रेसजन व किसान शामिल हुए। इसके अलावा वाहनों का काफिला भी साथ चलता रहा। विभिन्ना गांवों से होते हुए पदयात्रा गुरूवार शाम सेमरी मंदिर पहुंची। इस दौरान रास्ते में जगह-जगह जल-पान और स्वल्पाहार की व्यवस्था की गई थी। इस दौरान बारिश भी चलती रही, लेकिन यात्रा का उत्साह कमजोर नहीं पड़ा। पदयात्रा का रात्रि विश्राम सेमरी मंदिर पर हुआ। अगले दिन छह अगस्त को पदयात्रा जिला मुख्यालय की ओर बढ़ेगी, जहां कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा जाएगा। पदयात्रा के दौरान जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि कमलनाथ सरकार में 100 रुपये का बिजली बिल आता था, अब एक हजार से ज्यादा का आ रहा है।

बॉक्स..

पदयात्रा में शामिल मुद्दे

पदयात्रा के पीछे मार्च 2021 में आरोन क्षेत्र के एक दर्जन गांव में ओलावृष्टि से शत-प्रतिशत नुकसान हुआ था, उन्हें मुआवजा नहीं मिला है। बिजली बिलों में बेतहाशा वृद्धि की गई है। पांच एचपी के पंप चला रहे किसानों को आठ व 10 एचपी के बिल थमाए जा रहे हैं। इन्हें माफ किया जाए। इस साल मक्का की फसल की बोवनी अधिक हुई है, सरकार उसकी खरीदी समर्थन मूल्य पर करे। इसके अलावा पेट्रोल-डीजल के भावों में बेलगाम वृद्धि से लोगों को राहत दी जाए।

बॉक्स..

प्रभारी मंत्री को चला रहे सिंधिया के पीए

पूर्व मंत्री व राघौगढ़ विधायक जयवर्द्धन सिंह ने पदयात्रा के दौरान मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्नसिंह तोमर को तो ज्योतिरादित्य सिंधिया के पीए चला रहे हैं। वे सिर्फ नाम के प्रभारी मंत्री हैं, क्योंकि उनका काम तो वही देख रहे हैं। तोमर तो बिजली के खंभों पर चढ़ें और तमाशा देखें। दरअसल, हाल ही में गुना दौरे पर आए प्रभारी मंत्री ने जयवर्द्धन सिंह की पदयात्रा पर कहा था कि उन्हें पश्चाताप यात्रा निकालनी चाहिए। इसी कटाक्ष का जयवर्द्धन सिंह जवाब दे रहे थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local