बालाघाट, नईदुनिया प्रतिनिधि। भरवेली मायल की अंडर ग्राउंड लेबल 15 में शुक्रवार की सुबह करीब 10.30 हादसा हो गया। इस हादसे मे कार्य कर रहे मजदूरों में से एक मजदूर की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि एक मजदूर के गंभीर रूप से घायल होने पर उसे इलाज के लिए नगरीय क्षेत्र के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं मृत मजदूर के शव को पोस्टमार्टम कराने के लिए जिला अस्पताल में लाया गया लेकिन यहां पर मायल के किसी भी जिम्मेदार अधिकारी के नहीं पहुंचने के चलते स्‍वजनों ने पोस्टमार्टम को रुकवा दिया हैं।

पत्थर गिरने से उसमें दबे दो मजदूर : अंडरग्राउंड लेबल 15 में करीब 15 मजदूर सुबह 8 से लेकर 4 बजे तक की शिफ्ट में माइंस में खुदाई का कार्य कर रहे थे। करीब 10.30 के दौरान कुछ मजदूर सुरक्षा के लिए बनाई जाने वाली दीवार को बनाने के लिए बाटम की सफाई का कार्य कर रहे थे। इसी दौरान एक पत्थर गिर गया और अमेड़ा निवासी चैतराम पिता जयराम लिल्हारे 34 वर्ष व मुंडीमाई निवासी उमेश पिता सुरेश पांचे दब गए। अन्य मजदूरों ने जब उन्हें निकाला तो मजदूर चैतराम की मौत हो गई थी वहीं उमेश गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसका मायल अस्पताल में प्राथमिक उपचार करने के बाद निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं।

अधिकारियों के पहुंचने पर ही पीएम कराने की जिद पर अड़े स्‍वजन : जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम की तैयारी के दौरान ही मृतक मजदूर के स्‍वजन इस बात को लेकर विरोध जताने लगे की हादसे को अधिक समय होने के बाद भी न तो मायल के कोई जिम्मेदारी अधिकारी मौके पर पहुंचे है और ना ही संबंधित ठेकेदार के सुपरवाइजर और स्टाफ पहुंचा है। जिससे ना तो मजदूर की अंत्येष्टि के लिए कोई मदद मिली है और ना ही कोई मुआवजे की बात कहीं गई है। मृतक मजदूर के चचेरे भाई संजय लिल्हारे ने बताया कि चैतराम के घर पर उसकी दो बेटी एक सात साल और एक तीन साल, पत्नी व मां है जिसकी देखभाल के लिए उन्हें आर्थिक मदद की आवश्यकता पड़ेगी ही। ऐसी स्थिति में तत्काल ही आर्थिक मदद मिलना चाहिए तब ही वे पोस्टमार्टम कराकर शव को घर ले जाए। इस दौरान पुलिस के साथ ही मायल के चिकित्सक ने भी स्‍वजनों को समझाने का प्रयास किया।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local