बालाघाट, नईदुनिया प्रतिनिधि। न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने रविवार को जैन समाज को चांदी के नौ छत्र व एक चांदी का भमडंल व तीन पीतल के भमडंल सौंप दिए। 24 अक्टूबर की रात बालाघाट जिले के लामता कस्बे में शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर से चोरों ने वारदात की थी। 28 अक्टूबर को जैन मंदिर से चोरी हुए समान को माफीनामा पत्र के साथ नल के गड्ढे में चोरों ने वापस रख दिया था। पुलिस ने बरामद कर बालाघाट न्यायालय में पेश किया था। न्यायालय के आदेश पर जैन समाज को शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर से चोरी किए सामान वापस करने आदेशित किया गया था। रविवार को साढ़े दस बजे सरपंच की मौजूदगी में सकल जैन समाज को पुलिस ने नौ छत्र, एक चांदी का भमंडल व तीन पीतल के भमंडल सुपुर्द कर दिए।

माफीनामा लिखकर लौटाया सामान, कहा-हो रहा था नुकसान:

जिले के लामता में शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर से सोमवार की रात चोर ने चांदी के नौ छत्र, एक चांदी का भमडंल और तीन पीतल के भमडंल चोरी कर लिए थे। चार दिन बाद चोर ने शुक्रवार को नल के पास माफीनामा लिखकर चोरी किया सामान छोड़ दिया। उसने माफीनामा में लिखा कि सामान चोरी करने के बाद से काफी नुकसान व परेशानी हो रही है। इसीलिए चोरी किया सामान वापस रखकर जा रहा हूं। मुझे माफ करना और सामान को जैन मंदिर तक पहुंचा देना। इस माफीनामे को पुलिस ने जब्त कर हैंड राइटिंग का मिलान शुरू कर दिया है। लामता थाना प्रभारी पीएस डामोर ने बताया कि शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में चोरी के बाद पुलिस ने गश्त बढ़ी दी थी। संभवत: इससे घबराकर आरोपित ने छत्र और भमंडल माफीनामा के साथ थैले में रखकर मंदिर के पास रख दिया। शुक्रवार को पानी भरने के लिए जैन समाज के लोग नल के पास गड्ढे में सफाई कर रहे थे। तभी उन्होंने वहां एक थैला रखा देखा। इसकी जानकारी जैन समाज व पुलिस को दी गई। माफीनामा में आरोपित ने खुद को लामता निवासी बताया है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close