बालाघाट,परसवाड़ा।नईदुनिया प्रतिनिधि।बस स्टैंड से छोटे व्यापारियों की दुकानों पर बुल्डोजर चलाकर अतिक्रमण हटाया गया।लेकिन बड़े व्यापारियों की दुकानें जस की तस हैं।जिसका विरोध सोमवार को छोटे व्यापारियों ने करते हुए पूरा परसवाड़ा तहसील मुख्यालय बंद कराया। साथ ही श्रीराम मंदिर व तहसील कार्यालय के सामने सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया गया।व्यापारियों का आरोप है कि शासन प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने के दौरान भेदभाव अपनाया गया है।इसके लिए उन्होंने नगर को बंद कराकर धरना प्रदर्शन किया है।यदि उनकी मांगें पूरी नहीं होती है आगामी समय में आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

परसवाड़ा बस स्टैंड के स्थाई एवं व्याप्त अवैध अतिक्रमण को हटाने की मांग को लेकर व्यापारी संघ परसवाड़ा द्वारा अपनी दुकान बंद कर शांति रूप से धरना प्रदर्शन किया गया।व्यापारियों ने बताया कि परसवाड़ा मुख्यालय में एकमात्र बस स्टैंड है जहां पर बस स्टैंड बनाना प्रस्तावित है जिसको लेकर प्रशासन द्वारा वह दुकान लगाकर व्यापार कर रहे कुछ छोटे अतिक्रमणकारियों का निर्माण और दुकान तोड़कर हटा दिया गया है।लेकिन वही पर निर्मित पक्की दुकानों को प्रशासन द्वारा नहीं हटाया गया।इससे स्पष्ट होता है कि प्रशासन बस स्टैंड के स्थापना अतिक्रमण तोड़ने में पक्षपात किया जा रहा है।प्रशासन के इस पक्षपात रवैया के खिलाफ सोमवार को परसवाड़ा के व्यापारियों ने अपनी दुकान बंद कर विरोध जताया है और कहा कि अगर हमारी मांगें पूरी नहीं की गई तो क्षेत्र के जनता के साथ मिलकर आंदोलन किया जाएगा।इधर व्यापारियों द्वारा नगर बंद किए जाने के बाद पुलिस ने फ्लैग मार्च निकालकर शांति बनाए रखने अपील की गई।

पूरे नगर का किया भ्रमण

जानकारी के अनुसार सोमवार को सुबह नौ बजे से श्रीराम मंदिर के सामने सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया गया।उसके बाद दोपहर दो बजे से रैली निकाली गई।रैली पूरे नगर का भ्रमण करते हुए तीन बजे से तहसील कार्यालय के सामने भी धरना प्रदर्शन किया गया।जहां पर एसडीएम तन्मय वशिष्ठ शर्मा को बुलाने की मांग की जा रही है।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close