बालाघाट। बालाघाट के चतुरमोहता परिवार के नन्हें होनहार बालक ने वह काम कर दिखाया है जो अब तक इस उम्र के कोई बालक ने पूरे देश में नहीं कर पाया। इसके चलते नन्हे होनहार बालक अर्जुन पिता डॉ. अक्षय चतुरमोहता का नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड 2020 की बुक में अपना नाम दर्ज कराया है। अर्जुन को देश के प्रथम राष्ट्रपति से लेकर वर्तमान राष्ट्रपति और देश के प्रथम प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तक का नाम सिलसिलेवार याद है। अर्जुन का अब पूरा परिवार गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में उसका नाम दर्ज कराना चाहता है। अर्जुन भी उसकी तैयारी कर रहा है। धार्मिक प्रार्थना के साथ ही अन्य कई बातों का इतनी कम उम्र के अर्जुन में होना कोई कुदरती करिश्मे से कम नहीं है। मीडिया के सामने बालक अर्जुन ने केमेस्ट्री पेरीओडिक टेबल, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का नाम सिलसिलेवार लिया तो मीडियाकर्मियों को भी उसकी दिमागी करिश्मे का पता चला।

केमेस्ट्री पेरीओडिक टेबल का वीडियो

पिता डॉ. अक्षय चतुरमोहता ने बताया कि अर्जुन का केमेस्ट्री पेरीओडिक टेबल बोलते हुए एक वीडियो उन्होंने 16 अगस्त 2019 को इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड के लिए भेजा था। उसमें अर्जुन ने 46 सेकंड में केमेस्ट्री पेरीओडिक टेबल आवर्त सारणी बोली थी, इसके बाद सबसे तेज केमेस्ट्री पेरीओडिक टेबल बोलने पर अर्जुन का नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड 2020 के लिए नामांकित किया गया है। बालक अर्जुन की यह उपलब्धि न केवल पूरे जिले अपितु देश के लिए गौरान्वित करने वाली है और परिवार भी स्वयं को गौरान्वित कर रहा है।

अर्जुन की सफलता पर दादा डॉ. सीएस चतुरमोहता, दादी शीला चतुरमोहता, बड़े पापा अनुराग चतुरमोहता, बड़ी मम्मी चैताली चतुरमोहता, मां डॉ. दर्शना चतुरमोहता समेत पूरे परिवार का विश्वास है कि बालक अर्जुन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में अपना नाम दर्ज कराकर देश को गौरान्वित करेगा। छोटे से अर्जुन की इस प्रतिभा के उनके परिवार वाले ही नहीं आस-पास के लोग भी कायल हैं।