Balaghat News: बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बालाघाट रेलवे स्टेशन से होकर सवारी ट्रेन, एक्सप्रेस, सुपरफास्ट ट्रेनों के साथ ही रोजाना मालगाड़ी जबलपुर, गोंदिया, नागपुर से होते हुए अन्य राज्यों तक पहुंचती है। बालाघाट रेलवे स्टेशन पर सुबह करीब करीब सा़ढ़े आठ बजे विद्युत लाइन का ओएचई (ओवर हैड इक्विपमेंट) तार अचानक टूट जाना है। इसकी जानकारी लगते ही रेलवे में हड़कंप सा मच। कोई हादसा न हो जाए, इसे देखते हुए तत्काल ही बालाघाट रेलवे स्टेशन पहुंचने वाली समस्त ट्रेनों को गोंदिया, कटंगी, तिरो़ड़ी व चरेगांव स्टेशन पर रोक दिया गया। इस कारण कुछ ट्रेनें प्रभावित हुई हैं।

एक घंटे की देरी में पहुंचा तकनीकी स्टाफ

रेल विद्युत तार के टूट जाने पर गोंदिया में तैनात टेक्नीकल स्टाफ को इसकी जानकारी दी गई जिसके बाद टेक्नीकल इंजन से बालाघाट के लिए रवाना हुआ। जो करीब एक घंटे के अंतराल में सुबह करीब 9.30 बजे पहुंचा और एक घंटे से भी अधिक वक्त की मशक्त कर सुधार कार्य को पूर्ण किया। मौके पर गोंदिया से पहुंचे तकनीकी अधिकारी ने अमले को जिस स्थान से तार टूटा था, वहां के जंफर, बायर को जप्त करने के निर्देश देने के साथ ही इस बात की जांच करने के निर्देश दिए कि ये कब लगाया गया था और किसके द्वारा लगाया गया था। इसकी भी जानकारी तत्काल ही जुटाने नागपुर डिवीजन को देने के निर्देश दिए हैं। हालांकि उन्होंने अधिकृत न होने की बात कहकर इस संबंध में बयान देने से मना कर दिया है।

न्यूटल सेक्शन में आया फाल्ट

रेलवे विद्युत लाइन में न्यूटल सेक्शन से तार में विद्युत सप्लाई पहुंचाई जाती है। उक्त स्थान पर फाल्ट होने से जंफर में अधिक वोल्टेज आने से तार ने ज्वाइंट छोड़ दिया और वह टूट गया। बताया गया कि जिस ट्रैक पर अधिक या कम संख्या में ट्रेन दौड़ती हैं, वहां पर उक्त स्थान पर विद्युत की सप्लाई कम-ज्यादा होती रहती है और यह फाल्ट भी अधिक सप्लाई होने के कारण हुआ है। सुधार कार्य होने के बाद ट्रेनों को उनके गंतव्य के लिए रवाना किया गया।

इनका कहना है

बालाघाट रेलवे स्टेशन में रेल विद्युत तार टूट जाने पर इसकी सूचना तकनीकी स्टाफ को दी गई। उन्होंने मौके पर पहुंचकर सुधार कार्य को पूर्ण किया है। इसके बाद सुबह सवा नौ बजे वाली नागपुर-तिरोड़ी-गोंदिया को 11.30 बजे व 9.30 बजे वाली कटंगी-गोंदिया को 11.40 पर रवाना किया गया है।

- केएम चौधरी, मुख्य स्टेशन प्रबंधक, बालाघाट रेलवे स्टेशन।

Leopard in Indore: इंदौर के खुड़ैल में पिंजरों में कैद नहीं हुआ तेंदुआ, पंजों के निशान मिले

डीएवीवी इंदौर की कुलपति की फर्जी आइडी से कार्यपरिषद सदस्य को ई-मेल, गिफ्ट वाउचर खरीदकर भेजें

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close