वारासिवनी (नईदुनिया न्यूज)। नगरीय निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही नगरपालिका परिषद वारासिवनी के पार्षद चुनाव के लिए कांग्रेस, भाजपा व निर्दलीय विधायक द्वारा अपने-अपने उम्मीदवारों को मैदान में उतारने की तैयारियां प्रारंभ कर दी गई। वैसे तो नगरीय निकाय चुनाव की घोषणा के साथ ही कांग्रेस व भाजपा ने प्रत्याशियों की चयन प्रक्रिया प्रारंभ कर दी थी। लेकिन पहले पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी होने के कारण दोनों दलों का ध्यान पंचायत चुनाव में जनपद व जिला पंचायत सदस्यों के चयन में उलझा हुआ था। अब पंचायत चुनाव में प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह का वितरण हो जाने

के बाद दोनों ही पार्टियों ने नगरीय निकाय की तैयारी प्रारंभ कर दी हैं।

नगरीय निकाय चुनाव को लेकर श्री सिद्धी विनायक मंदिर वार्ड नंबर चार में भाजपा के जबलपुर संभाग के सहसंयोजक व विधायक गौरीशंकर बिसेन और भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश भटेरे की उपस्थिति में भाजपा नगर मंडल की बैठक का आयोजन

किया गया। इस बैठक में नगरीय क्षेत्र के पार्षद का चुनाव लड़ने के इच्छुक सैकड़ों कार्यकर्ताओं व नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर चुनाव लड़ने की मंशा जाहिर की।बैठक में भाजपा नेताओं ने कार्यकर्ताओं व नेताओं को मिलजुलकर चुनाव लड़ने और नगरपालिका के सभी 15 वार्डों में भाजपा प्रत्याशियों को जिताकर अध्यक्ष पद पर कब्जा करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि एक-दूसरे के साथ मिलजुलकर एकता स्थापित कर ही विरोधियों को मात दी जा सकती हैं।

नेताओं ने स्पष्ट रुप से कहा कि जिन कार्यकर्ताओं को टिकट मिलती हैं। सभी को उस कार्यकर्ता के लिए जी जान से कार्य करना हैं। जिससे वह विजयश्री हासिल कर सके और परिषद में भाजपा का कब्जा हो सके।

निर्दलीय विधायक ने मेरे कार्यकाल में लगाए थे 100 सवाल मेरे विरूद्ध

पूर्व विधायक डा. योगेंद्र निर्मल ने भाजपा सरकार को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायक के विरूद्ध कहा कि जब वह

नगरपालिका अध्यक्ष थे, तो उनके खिलाफ विधायक द्वारा लगभग 100 प्रश्न विधानसभा में लगाए गए थे। मेरे द्वारा नगर विकास के कार्य उन्हें रास नहीं आ रहे थे।लेकिन जब मैं विधायक बनाए तो मैं उनके अध्यक्ष के विरूद्ध कभी कोई सवाल नहीं लगाया।भाजपा नेता निरंजन बिसेन ने कहा कि जब उनकी धर्मपत्नी ने जनपद पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ा था, तब भाजपा समर्थित 12 सदस्य थे, लेकिन मतदान के बाद उन्हें 14 मत मिले थे। लेकिन जब दोबारा ऐसा ही मौका

आया तो हम कमजोर रणनीति व नेतृत्व के कारण बहुमत होने के बाद भी जनपद पंचायत अध्यक्ष का पद हाथ से गंवा बैठे। इसीलिए इस बार नेतृत्व को कठोर निर्णय लेते हुए समझदारी के साथ कार्य करना होगा।जिससे जनपद पंचायत व

नगरपालिका में भाजपा का अध्यक्ष ही बैठे।भाजपा जबलपुर संभाग सहसंयोजक गौरीशंकर बिसेन व जिलाध्यक्ष रमेश भटेरे

ने भी सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को एकजुटता का पाठ पढ़ाया और उन्हें सभी आपसी मतभेदों को भुलाकर एकजुट होकर जनपद पंचायत व नगरपालिका परिषद में घोषित किए जाने वाले सभी प्रत्याशियों को विजयश्री दिलवाने का प्रयास

करने के लिए प्रेरित किया।

आपसी मनमुटाव भुलाकर पार्टी हित में करे कार्य

बैठक में पार्षद पद के दावेदारों ने अपना-अपना बायोडाटा भी नेताओं को दिया हैं। फिलहाल इस बैठक में वरिष्ठ नेताओं ने नगरीय क्षेत्र के नेताओं को आपसी मनमुटाव मिटाकर पार्टीहित में मिलजुलकर कार्य करने और जिस किसी भी कार्यकर्ता को प्रत्याशी बनाया जाता है उसे जिताकर नगरपालिका में बहुमत हासिल कर अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाने के लिए निर्देश दिए। वैसे सभी नेताओं ने नगरपालिका के सभी 15 पार्षद पद पर कब्जा करने की बात कही।इस बैठक में जिला महिला भाजपा की पूर्व अध्यक्षद्वय निर्मला पटले व पुष्पा निरंजन बिसेन, भाजपा जिला अन्य पिछड़ा वर्ग अध्यक्ष अजय बिसेन, गौरव सिंह पारधी, निरंजन बिसेन, छगन हनवत, शैलेंद्र सेठी, सौरभ टेबू पटेल, पूनम झा, रेखा गोखले, सरिता सिंघई, सुनील पिपरेवार, डा. जयश्री अरोरा, रामकली टेकाम सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close