बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में लगातार तीन दिन तक हुई वर्षा से नदियों का जलस्तर बढ़ा हुआ है।मोवाड़ के बावनथड़ी नदी के पुल पर पानी होने से वारासिवनी से महाराष्ट्र राज्य के नागपुर वाला मार्ग तीन दिन से बंद है।इधर, मानकुंवर नदी में बाढ़ से एक ओर से पुल व बैहर क्षेत्र के पाथरी से घुम्मुर के बीच से प्रवाहित होने वाली सोन नदी का पुल दोनों ओर से बह गया है।इससे कई गांवों का तहसील मुख्यालय से संपर्क टूट रहा।

लामता से बालाघाट मार्ग परः लामता से चार किलोमीटर दूर नैनपुर बालाघाट रोड में कुम्हारी के पास लगातार वर्षा से एक साइड से सड़क पूरी तरह से धंसक गई है।जिसके कारण खतरा बना हुआ है।वर्षा का पानी छोटे पाइप द्वारा नहीं निकलने के कारण पानी का भराव हो गया है।जिसके कारण यह कटाव बढ़ते जा रहा है।दुर्घटना होने की संभावना है।पुलिस प्रशासन द्वारा आने जाने वाले लोगों से सतर्कता बरतने कहा गया है।

चिखलाझोड़ी से डोरा परसवाड़ा मार्ग पर गिराः जिले में लगातार हो रही वर्षा से एक तरफ बाढ़ होने से कई मार्ग बंद है।चिखलाझोड़ी से डोरा परसवाड़ा मार्ग पर पेड़ गिरने से आवागमन बाधित हो गया है।इस क्षेत्र में छोटे नाले उफान पर होने से अधिकांश रास्ते बंद है।वर्षा की वजह से उकवा में एक महिला का मकान धराशाई हो गया है।

नदियों का नहीं हुआ जल स्तर कमः तीन दिन तक लगातार वर्षा होने और नदियों में जलाशयों का पानी छोड़े जाने से जलस्तर बढ़ा हुआ है।जिसमें वैनगंगा नदी, बावनथड़ी, देव, बाघ, तन्नाौर नदी, सोन नदी, बंजर नदी में जल स्तर अभी भी बढ़ा हुआ है।जिसके चलते नालों पर दबाव पड़ने से जल स्तर बड़ा होने से कई रास्ते बंद पड़े हुए है।

धोबीटोला माल के नाले पर बाढ़ः ग्राम धोबीटोला माल में लगातार तीन दिन की वर्षा के कारण नाले में बाढ़ आ गई है।ग्रामीणों ने बताया कि इस गांव में आजादी के 75 वर्ष हो चुके है।लेकिन इस गांव में पुल न होने के वजह से सिर्फ स्कूल में एक ही शिक्षक उपस्थित हो पाया है।वर्षा की वजह से उजाड़बोपली का रास्ता बंद है।

खैरलांजी के गुडरूघाट में मकान गिरेः लगातार वर्षा से मोवाड़ से तुमसर मार्ग बंद हो गया है।मोवाड़ से बपेरा के मध्य बावनथड़ी नदी पर बने पुल के ऊपर पानी है। इससे भौरगढ़ से लिलामा मार्ग बंद है।वहीं, शिव नाला, किन्ही से खैरी मार्ग, भौरगढ़ से टेमनी मार्ग, छतेरा से टेकाड़ी तिजू के मध्य मुख्य मार्ग पर बने पुल के ऊपर पानी होने के कारण मार्ग बंद पड़े हुए है।खैरी और घोटी में निचले हिस्से में बाढ़ की स्थित बनी हुई है।लगातार वर्षा के कारण गुडरूघाट में पांच, सावरगांव में तीन, मोहगांवघाट में तीन सहित अन्य ग्रामों में मकान गिर गए।मिरगपुर में विजय देशमुख की सराव, भीम प्रसाद देशमुख की सराव, सोनवाने सराव मवेशी बांधने वाले तबेला गिर गया।तूफान सिंह अमूले का मकान गिर गया।

तिरोड़ी से खवासा मुख्य मार्ग में कटावः तिरोड़ी से खवासा मुख्य मार्ग पर कोयलारी में निर्मित पुलिया मिट्टी के कटाव से क्षतिग्रस्त हो गई है।इससे आवाजाही के दौरान दुर्घटना की आशंका बनी हुई है।

वारासिवनी के नेवरगांव कोपे में नाले बहते हुए एक व्यक्ति बचाः ग्राम नेवरगांव के कोपे में सोमवार को बाइक को लेकर नाला पार करते समय एक व्यक्ति बाइक सहित तेज बहाव में बहने लगा था। लेकिन बड़े मुश्किल से उसे मौजूद लोगों द्वारा बचा लिया गया।इस दौरान व्यक्ति की पत्नी रोते बिलखते दिखाई दी।हालांकि लोगों ने नाला पार करने से मना कर रहे थे। उसके बाद भी लोग जान जोखिम में डालकर नाला पार कर रहे थे।

सीएम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के जाने हालातः मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों की स्थिति और आपदा प्रबंधन की स्थिति की समीक्षा की।इसमें कलेक्टर डा. गिरीश कुमार मिश्रा, पुलिस अधीक्षक समीर सौरभ किरनापुर से इस वीडियो कांफ्रेस में शामिल हुए।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बालाघाट जिले में आपदा प्रबंधन के लिए किए गए कार्य की सराहना की। साथ ही बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के संबंध में अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश जारी किए।ग्राम नीलागोंदी में बोट से कलेक्टर व एसपी पहुंचे।दोनों ने ग्राम नीलागोंदी, कड़कना सहित अन्य गांवों का निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

लांजी क्षेत्र में तीन दिनों से हुई अतिवृष्टि के चलते एवं बाढ़ आपदा के कारण क्षेत्र में जनजीवन प्रभावित रहा।16 अगस्त को मौसम साफ होते एवं हल्की धूप खिलने से लोगों ने राहत की सांस ली।अधिक वर्षा होने से कोटरा डैम, कालीसरार, सिरपुर बांध से लगातार पानी छोड़े जाने के कारण बाघ नदी का जल गांव तक जा पहुंचा। अतिवृष्टि एवं बाढ़ के चलते बहुत से गांव की विद्युत व्यवस्था बहाल नहीं हो पाई है।जिसके चलते भी ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

उमरी में डूब गई शंकरटोला बस्तीः बाढ़ से अमेड़ा के शंकरटोला के मेन रोड में बाढ़ का पानी आ गया है।नालियों में जल भराव होने की वजह से पानी मुख्य मार्ग में ऊपर आ गया है।जिसके चलते लगभग दो सैकड़ाभर से अधिक लोग पानी में फंस गए थे।इसके अलावा अनेक मोहल्ले की झुग्गी झोपड़ियां डूब गई थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close