बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। वन परिक्षेत्र बिरसा अंतर्गत आने वाले ग्राम सुंदरवाही बीट में दूसरे गांव के आधा दर्जन से अधिक लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है। जंगल में अतिक्रमण कर लिए जाने से वन संपदा को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। इसकी शिकायत अनेक बार वन सुरक्षा समिति द्वारा जनप्रतिनिधियों से लेकर वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से की गई है।लेकिन अभी तक कोई बात नहीं बन पाई है। जिसके चलते वन सुरक्षा समिति के अध्यक्ष से लेकर सदस्यों ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर एक ज्ञापन सौंपकर अतिक्रमण हटाए जाने की मांग की है। बावजूद इसके अभी तक अतिक्रमण नहीं हटाया जा सका है।

ग्रामीण जंगलसिंह मरकाम,जालमसिंह मरकाम सहित अन्य ने बताया कि सुंदरवाही के जंगल में कक्ष क्रमांक 1696 में ग्राम शेरपार के ग्रामीण सुनऊ तितरासिंह,सौबनुसिंह तितरासिंह, करनसिंह सबनुसिंह, हेमसिंह सोहगुसिंह, सुबतिया दसरूसिंह, इसीलाल सबनुसिंह,अशोक मटकुसिंह,कुंवर सिंह पंचम सिंह द्वारा दो साल से जंगल में अतिक्रमण कर लिया है।इससे वन संपदा नष्ट हो रही है।इन्हें अनेक बार वन विभाग द्वारा भी समझाइश दी गई,लेकिन उनके द्वारा फर्जी तरीके से वन अधिकार का पट्टा बना लिया गया।इसको लेकर उनके द्वारा 26 अप्रैल को कलेक्टर की जनसुनवाई में पहुंचकर निराकरण के लिए आवेदन दिया गया है,लेकिन आज तक निराकरण नहीं हो पाया है।

अतिक्रमण होने से प्लांटेशन में दिक्कतः ग्रामीणों ने बताया कि जहां पर अतिक्रमण किया गया है उस जमीन में औषधि वाले पौधों का प्लांटेशन लगाने चयनित किया गया है,पर वहां पर आठ लोगों द्वारा कच्चा अतिक्रमण कर लिए जाने से औषधि वाले पौधे लगाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।क्योंकि पौधे लगाने खोदे गए 18 हजार 250 गड्ढे में से अधिकांश गड्ढों को अतिक्रमणकारियों द्वारा मिट्टी डालकर बंद किया जा रहा है। जिसके चलते वन सुरक्षा समिति सुंदरवाही के सदस्यों में आक्रोश व्याप्त है।उन्होंने शासन प्रशासन से जंगल में किए गए अतिक्रमण को हटाने की मांग की है।

इनका कहना

सुंदरवाही के जंगल में जहां पर खाली जगह है वहां ग्राम शेरपार के आठ लोगों द्वारा दो साल से अतिक्रमण कर लिया गया है।इसकी शिकायत किए जाने पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।जबकि वहां पर औषधि वाले पौधों का प्लांटेशन लगाया जाना है।साथ ही इसकी पूरी देखरेख वन विभाग के साथ वन सुरक्षा समिति द्वारा की जाएगी।इसकी शिकायत कलेक्टर को कर कार्रवाई की मांग की गई है।

शोभासिंह मेरावी, अध्यक्ष, वन सुरक्षा समिति सुंदरवाही।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close