बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में 150 से अधिक पेट्रोल पंप संचालित हो रहे हैं। स्टाक खत्म होने से पहले हमेशा आपूर्ति होती रही है। लेकिन पिछले एक सप्ताह से समय पर डीजल नहीं मिलने से पंप के टैंक सूख रहे हैं। इसके पीछे मुख्य वजह से जबलपुर के डिपो से सप्लाई में हो रही देरी बताई जा रही है। पेट्रोल पंपों में डीजल की कमी से पंप संचालकों को ही नहीं वाहन चालकों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालात यह हैं कि जरुरतमंद महाराष्ट्र के गोंदिया-भंडारा जिले से डीजल ला रहे हैं। यहां पंप संचालकों एडवांश जमा करने के बाद भी समय पर डीजल नहीं मिल पा रहा है।सप्ताह में तीन दिन पंप संचालकों को भी डीजल की आपूर्ति करने में समस्या हो रही है।

शुक्रवार को टैंकर नहीं निकला तो शनिवार को निकल नहीं पाता है,रविवार को डिपों बंद होने से सोमवार को ही टैंकर निकल पाते हैं।सोमवार की देर शाम या रात में पहुंचते हैं।एक दिन की चूक से चार दिन तक पेट्रोल पंप संचालकों को डीजल की कमी से जूझना पड़ता है।इससे शहरी क्षेत्रों में परिवहन और यात्री सेवाओं पर इसका बुरा असर पड़ रहा है।जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में खरीफ की तैयारी के लिए किसानों ने कृषि कार्य भी शुरू कर दिया है।डीजल नहीं मिलने से खेतों की जुताई का काम भी प्रभावित हो रहा है।

डीजल की अधिक हो रही किल्लतः इसके पहले समय पूर्व डिपो से संचालकों द्वारा पेट्रोल, डीजल की अलग-अलग मांग किए जाने पर उपलब्ध कराया जाता था। लेकिन वर्तमान समय में डीजल का टैंकर अलग से नहीं दिया जा रहा है और पंप ड्राय होने की स्थिति में भी पेट्रोल के साथ डीजल को कम मात्रा में दिया जा रहा है। जिससे डीजल न मिल पाने के कारण पंप संचालाक डीजल को उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं। रास्तों में खड़े हो रहे वाहन, भटक रहे लोग पेट्रोल पंपों में डीजल नहीं मिल पाने से डीजल से चलने वाले वाहन रास्तों में खड़े हो रहे हैं। जिसके बाद वाहनों के चालक-परिचालक व कर्मचारी डीजल के पेट्रोल पंपों के चक्कर काट कर परेशान हो रहे हैं। डीजल न मिलने से उन्हें भी नुकसान पहुंच रहा है।

14 जून को डिपो से जिले के पंपों के लिए पेट्रोल तो मिला है,लेकिन डीजल नहीं मिला है। जिससे इसकी पूर्ति प्रभावित रहेगी। चुनाव के साथ शुरु हो रही खरीफ का सीजन वर्तमान समय त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव व नगरीय चुनाव निर्वाचन की प्रक्रिया संचालित हो रही है।ऐसे में प्रत्याशियों को प्रचार-प्रसार के लिए डीजल वाहनों की आवश्यकता भी पड़ रही है।डीजल की कमी से प्रत्याशियों को भी जूझना पड़ रहा है।

इनका कहना...

हम पेट्रोल संचालक अपने रुपये जमा कर आर्डर लगाते है जिसके बाद डिपो से उन्हें पेट्रोल, डीजल दिया जाता है, लेकिन कुछ दिनों से डिपो में परेशानी होने के कारण समस्या चल रही है और पेट्रोल, डीजल नियमित व पूर्ण रुप से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। वहीं डिपों में डीजल की अधिक समस्या है। जिससे पेट्रोल, संचालक के साथ ही जनता को भी परेशान होना पड़ रहा है।- ब्रजलाल सिंह गुलाटी,पेट्रोल पंप संचालक ।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close