MP News : श्रवण शर्मा बालाघाट। नईदुनिया। कान्हा पार्क से बाघ टी-29 'छोटा मुन्ना' गायब हो गया है! प्रबंधन द्वारा जंगल में लगाए कैमरों में वह 23 अक्टूबर 2019 के बाद से नजर नहीं आया। जबसे इसके गायब होने की खबर पार्क के भीतर से छनकर बाहर आई तब से हड़कंप मचा हुआ है। पार्क प्रबंधन जहां 8 माह बाद भी इसका सुराग नहीं लगा सका, वहीं इसके शिकार की आशंका को भी बल मिलने लगा है। टी-29 की पतासाजी में जुटे पार्क प्रबंधन की कोशिश फिलहाल किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

पार्क से लगे पेंच और अचानकमार के कॉरिडोर में भी तलाश की गई, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। कॉरिडोर के जंगलों में लगे ट्रैप कैमरों में जनवरी से अप्रैल तक की वाइल्ड एनीमल की तस्वीरों का भी टी-29 से मिलान किया गया, पर 130 तस्वीरों में भी छोटा मुन्ना की झलक देखने नहीं मिली।

पार्क प्रबंधन शिकार की बात से परहेज कर रहा है, लेकिन टी-17 'बड़ा मुन्ना' के वन विहार शिफ्ट किए जाने के बाद अचानक टी-29 के गायब होने से पार्क प्रबंधन कोई पुख्ता जवाब भी नहीं दे पा रहा है। पार्क प्रबंधन अब छग के जंगलों में भी तलाश करने की बात कह रहा है। मालूम हो कि अक्टूबर में जब छोटा मुन्ना गायब हुआ था, तब पार्क के कोर जोन में पर्यटकों ने हथियार बंद आधा दर्जन लोगों की मौजूदगी पाई थी।

इनके नक्सली होने का अंदेशा जताया जा रहा था। जिस तरह से छोटा मुन्ना गायब हुआ और सशस्त्र संदिग्ध लोग पार्क में देखे गए, इन सबसे शिकार की आशंका से भी इन्कार नहीं किया जा सकता।

ऐसे जानें छोटा मुन्ना और बड़ा मुन्ना को

टी-29 'छोटा मुन्ना' का टी-8 मादा 'मुंडी दादर' और टी-17 नर बाघ 'बड़ा मुन्ना' से गहरा नाता है। मुंडी दादर इसकी मां है, जबकि बड़ा मुन्ना पिता। टी-17 के माथे पर अंग्रेजी में कैट लिखा हुआ है। वहीं टी-29 के पिछले बाएं पैर पर डीएफओ लिखा दिखाई देता है। पर्यटकों के बीच बड़ा मुन्ना की तरह छोटा मुन्ना भी इसलिए लोकप्रिय है कि वह आसानी से पर्यटकों को देखने मिल जाता है।

छोटा मुन्ना उर्फ डीएफओ अक्टूबर से कान्हा में नजर नहीं आ रहा है। उसकी तलाश करने पार्क प्रबंधन लगातार कोशिश कर रहा है। बालाघाट के जंगलों में उसे खोजा जा रहा है। इसके लिए सीसीएफ बालाघाट से चर्चा हुई है। वह ट्रैप कैमरे की मदद से उसकी तलाश कर रहे हैं। पेंच-अचानकमार कॉरिडोर में भी कोई जानकारी नहीं लग पा रही है। कान्हा के किसी भी बाघ को कॉलर आईडी नहीं लगी है।

- एल कृष्णमूर्ति, डायरेक्टर, कान्हा

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना