बालाघाट।नईदुनिया प्रतिनिधि। स्वास्थ्य विभाग का अमला जिले में भले ही स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को दुरुस्त कर मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने का दावा कर रही है, लेकिन वस्तुस्थिति में संसाधनों की कमी लगातार नजर आती है। एक ऐसे ही मामले में एक प्रसूता महिला को जुड़वा नवजात होने के बाद अधिक रक्त के बहाव के कारण जहां पहले नवजात बालक की मौत हो गई है वहीं माता ने भी दम तोड़ दिया है। यह मामला जिले के मलाजखंड थाना क्षेत्र का है।

जननी को दी सूचना जवाब मिला आने में होगी देरी

मलाजखंड थाना क्षेत्र के छिंदीटोला निवासी पीडि़म महेश मड़ाबी ने जानकारी देते हुए बताया कि उसकी पत्नी शशिकला को प्रसव पीड़ा होने पर चार नवंबर की शाम उसे अस्पताल ले जाने के लिए जननी 108 को फोन लगाया गया। इस पर कहा गया कि जननी मरीज को लेकर बालाघाट अस्पताल तक आई है आने में देर लगेगी।वहीं प्रसूता को अधिक दर्द होने पर प्रसव घर पर ही कराया गया।

रास्ते में ही बालक की हुई मौत

घर ही प्रसव के बाद प्रसूता व उसके दोनो नवजात शिशुओं को लेकर मोहगांव के स्वास्थ्य केंद्र में लाया जा रहा था इसी दौरान रास्ते में नवजात बालक की मौत हो गई। वहीं स्वास्थ्य केंद्र में माता व नवजात बालिका को भर्ती किए जाने पर माता की अधिक स्थिति गंभीर होने के चलते उसे जिला अस्पताल रेफर किया गया लेकिन जिला अस्पताल में उपचार के दौरान माता ने भी दम तोड़ दिया है।जिसके बाद नवजात बालिका को शिशु गहन चिकित्सा ईकाई में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है।

समय पर मिलता उपचार तो बच जाती दोनो जान

पीडि़त महेश मड़ाबी ने बताया कि जननी को सूचना देने के बाद भी उसके समय पर नहीं पहुंचने के कारण घर पर ही प्रसव कराना पड़ा। इस दौरान त्वरित उपचार नहीं मिल पाया जिसके कारण अधिक रक्त का बहाव होने से व सही तरीके से प्रसव न हो पाने से नवजात बालक व उसकी माता की मौत हो गई है। उन्हाेंने इस मामले की शिकायत अस्पताल चौकी पुलिस से भी की है।

कराया गया पोस्टमार्टम, मामले को लिया विवेचना

जिला अस्पताल में प्रसूता की मौत होने पर परिजनों ने इसकी सूचना अस्पताल चौकी पुलिस को दी जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर परिजनों के बयान दर्ज किए है। वहीं चिकित्सकों की मौजूदगी में प्रसूता के शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है। मर्ग कायम कर मामले को विवेचना में लिया है व मामले की अग्रिम विवेचना के लिए संबंधित थाना को डायरी भिजवाई गई है।

शशिकला पति महेश मड़ाबी 32 छिंदीटोला थाना मलाजखंड कल शाम सात बजे करीब महिला को प्रसव का दर्द होने पर पति महेश पिता गुहदर मड़ाबी द्वारा जननी को फोन कर जिस पर पता चला कि वह किसी ओर मरीज को लेकर बालाघाट आई है जिसके कारण जननी समय पर नहीं पहुंची और महिला का प्रसव कराया गया। प्रसव में जुड़वा बच्चों को एक बालिका एक बालक को जन्म दिया है। जिसके बाद निजी वाहन से मोहगांव अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां नवजात बालक की मौत हाे गई इसके बाद महिला और लड़की जिला अस्पताल रेफर कर भर्ती कराया गया है। जिसमें रात में ही मां की भी मौत हो गई। नवजात बालिका को गहन चिकित्सा ईकाई में भर्ती महिला की मौत का कारण अत्यधिक रक्त का स्त्राव होने व समय पर उपचार न मिलने के कारण मौत हो गई। परिजनों की शिकायत के बाद अस्पताल पुलिस चौकी पुलिस ने महिला के शव को पोस्टमार्टम कराया है परिजनों के बयान दर्ज कर परिजनों को सौंप दिया है मर्ग कायम मामले को विवेचना में लेकर अग्रिम कार्रवाई के लिए संबंधित थाने को भिजवा दिया है।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close