बालाघाट(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मध्य प्रदेश में दीनदयाल रसोई के संचालन को सुदृढ़ करने कवायद की जा रही है। इसके लिए सरकार तमिलनाडू व राजस्थान के मॉडल पर काम करने की तैयारी कर रही है। तमिलनाडू की अम्मा व राजस्थान की इंदिरा रसोई के मॉडल अपनाकर दीनदयाल रसोई का बेहतर तरीके से संचालन करने की योजना बना रही है। इसके लिए महाकोशल के लिए बालाघाट-सिवनी जिले के नगर पालिका सीएमओ को राजस्थान विजिट कराया गया है। वहीं बैतूल जिले के नगर पालिका सीएमओ तमिलनाडू भेजा गया था। जहां इन अफसरों ने रसोई के बेहतरी से संचालन की व्यवस्था को जाना है।

मध्य प्रदेश में राजस्थान की इंदिरा रसोई और चैन्ना्‌ई व हैदराबाद में संचालित रसोईयों की व्यवस्था का मॉडल अपनाने के लिए तैयारी की जा रही है। इनकी विजिट कर लौटे अफसरों ने दीनदयाल अंत्योदय रसोई मिशन के अधिकारियों को अपनी रिपोर्ट भेजी है।

राजस्थान में देखी इंदिरा रसोई

बालाघाट-सिवनी नगर पालिका के सीएमओ ने राजस्थान के उदयपुर में इंदिरा रसोई की संचालन व्यवस्था को देखा है। भोजन की शुद्धता के साथ क्रियान्वयन के हर जरूरी इंतजाम को बारीकी से देखा गया है। यहां उन्होंने भीड़ वाले क्षेत्रों में बस स्टैंड,रेलवे स्टेशन व अस्पताल में स्थापित इंदिरा रसोई के संचालन के मॉडल को देखा और परखा है। इस टीम के साथ दीनदयाल रसोई के स्टेट मिशन मैनेजर मृत्युंजय शर्मा ने भी रसोई के संचालन की व्यवस्था को देखकर इस मॉडल को अपनाने पर जोर दिया है।

चैन्ना्‌ई व हैदराबाद का मॉडल भी बेहतर

बैतूल नगर पालिका सीएमओ अक्षत बुंदेला की मानें तो उनने चैन्ना्‌ई व हैदराबाद में रसोई के संचालन की अलग-अलग व्यवस्था को देखा है। चैन्ना्‌ई में स्व-सहायता समूहों के माध्यम से रसोईयों का संचालन किया जा रहा है। यहां सुबह के नाश्ते से लेकर दोपहर और शाम के खाने की व्यवस्था है। जो मध्य प्रदेश औद्योगिक क्षेत्रों में अपनाई जा सकती है। इसी प्रकार हैदराबाद में अम्मा कैंटीन व अक्षय पात्र रसोई की सेंट्रलाइज व्यवस्था को भी देखा है। जिसे बड़े शहरों में अपनाया जा सकता है।

ऐसी होगी व्यवस्था

- रसोई में ऑन लाइन मानीटरिंग की होगी व्यवस्था।

- साफ-स्वच्छ माहौल में भोजन कराने की होगी व्यवस्था।

- काउंटर कूपन के माध्यम से परोसा जाएगा भोजन।

- गर्म भोजन देने के लिए उपयुक्त बर्तन भी रखे जाएंगे।

- सेंट्रलाइज रसोई की व्यवस्था पर दिया जाएगा जोर।

- एक स्थान पर होगी रसोई,मशनी से तैयार होंगी चपाती।

- बस स्टैंड,रेलवे स्टेशन और अस्पताल में इसकी प्राथमिकता पर जोर।

- महानगरों और औद्योगिक क्षेत्र में चैन्ना्‌ई की तर्ज पर सुबह का नाश्ता,दोपहर व शाम का भोजन देने की व्यवस्था पर दिया जाएगा जोर।

दीनदयाल रसोई के संचालन को सुदृढ़ करने के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने राजस्थान के उदयपुर में संचालित रसोई की व्यवस्थाओं को देखने भेजा था। स्टेट मिशन मैनेजर मृत्युंजय शर्मा की नेतृत्व में जाने का अवसर मिला। यहां आवश्यक स्थानों में रसोई की स्थापना की गई है। साथ ही सस्ता,शुद्ध खाना उपलब्ध कराने के साथ ऑन लाइन मॉनीटरिंग की व्यवस्था उत्तम है। जो यहां इंदिरा रसोई के सफल संचालन में बेहद कारगर है। मध्य प्रदेश सरकार भी दीनदयाल रसोई का बेहतरी से संचालन करने के लिए व्यवस्था को सुदृढ़ करने की तैयारी कर रही है।

- सतीश मटसेनिया,नगर पालिका सीएमओ बालाघाट

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags