बालाघाट। जिले में लगातार हो रही बारिश से हालात खराब होते जा रहे है। वहीं होमगार्ड व एसडीआरएफ की टीम लगातार सतर्क है। इसी कड़ी में दोपहर करीब 2.30 बजे सूचना प्राप्त हुई कि थाना लांजी के अंतर्गत ग्राम लड़सा में एक गर्भवती महिला समेत तीन लोग बाढ़ में फसे है। सूचना मिलने पर होमगार्ड/एसडीईआर की टीम को तत्काल किरनापुर से लांजी के लिए रवाना किया गया, जो तत्काल घटना स्थल पहुंच रेस्क्यू कर दो घंटे की कड़ी मेहनत के बाद तीनों को मोटर बोट के माध्यम से बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थान पहुंचाया । इस रेस्क्यू में टीम प्रभारी महेश कुमार उइके, उमेश धानेश्वर, सैनिक हीरालाल टेकाम, सैनिक अजगर अली, डीलीचंद बोपचे, दिलशाद , माणिक ठाकरे समेत अन्य स्टाफ मौजूद रहा ।

बालाघाट जिले में लगातार तीन दिन से हो रही वर्षा से नदी नाले उफान पर अनेक मार्ग हुए बंद

बालाघाट जिले में लगातार तीन दिन से वर्षा हो रही है। जिसके चलते नदी नाले उफान पर है। इससे अनेक रास्ते भी बंद हो गए है। वर्षा होने से जिला मुख्यालय के अलावा तहसील मुख्यालय से ग्रामीण अंचलों का संपर्क टूट गया है। इधर, प्रशासन द्वारा वैनगंगा नदी, बावनथड़ी, बंजर, तन्नौर, बाघ नदी किनारे बसे गांव में रहने वाले लोगों को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं।

लांजी तहसील में ग्राम दहेगांव, बापडी, परसोड़ी, चीखलामाली, उमरी, सावरीकला का मार्ग बंद हो गया। बाढ़ का पानी ग्राम में बढ़ रहा है। जिससे परसोड़ी में 10 परिवार को सुरक्षित स्थान में पहुंचा दिया गया है। वहीं, लांजी से आमगांव रोड बंद हो गया है।लांजी से आमगांव मुख्य मार्ग बंद हो गया है और पानी लगातार बढ़ रहा है। इससे 15 ग्राम का संपर्क तहसील मुख्यालय से टूट गया है।

थानेगांव, महाराजपुर और टोंडिया नाले पर पानी होने से आवागमन प्रभावित

वारासिवनी क्षेत्र में लगातार बारिश होने से ग्राम थानेगांव, महाराजपुर और लालबर्रा मार्ग पर टोंडिया नाले के ऊपर पानी होने से दो दर्जन से अधिक गांवों का तहसील मुख्यालय से संपर्क टूट गया है। इधर, जराहमोहगांव नाले के पुल पर पानी होने से वारासिवनी से जराहमोहगांव मार्ग बंद हो गया है। हालांकि कई लोग जान जोखिम में डालकर थानेगांव नाला पार कर रहे है।लगातार वर्षा होने से वारासिवनी से तुमसर मार्ग बंद हो गया है।

ये मार्ग भी बंद

लगातार हो रही वर्षा से चरेगांव से लामता के बीच पड़ने वाले मोहगांव नाला उफान पर है। इससे बालाघाट मार्ग पूरी तरह से बंद है। इसके अलावा परसवाड़ा से मंडला मार्ग भी बंद हो गया है। बैहर में तन्नौर और और बंजर नदी भी जल स्तर बढ़ गया है। जिससे सभी छोटे नाले उफान पर है। इससे अनेक मार्ग बंद है।

नदियों में छोड़ा गया बांध का पानी

अत्यधिक वर्षा होने के कारण महाराष्ट्र स्थित पुजारीटोला डैम के 14 गेट एवं कालीसरार डेम के 07 गेट खोले गए हैं। इसके कारण बाघ नदी में पानी बढ़ा है। किरनापुर एवं लांजी तहसील के बाघ नदी के किनारे बसे गांवों के ग्रामीणों को सावधानी बरतने की सलाह दी गई है और नदी के पानी पर नजर रखने कहा गया है। इसके अलावा संजय सरोवर परियोजना (भीमगढ़) बांध के चार गेट 14 अगस्त 2022 की रात्रि के सात बजे से दो गेट - 1.50 मीटर और दो गेट 1.75 मीटर खोले गए हैं । इस प्रकार भीमगढ़ बांध से कुल 30 हजार घन फीट प्रति सेकंड पानी छोड़ा जा रहा है। भीमगढ़ बांध से छोड़े जा रहे हैं इस पानी के कारण वैनगंगा नदी में जलस्तर बढ़ गया है।जिसके कारण बालाघाट जिले के एवं महाराष्ट्र के भंडारा जिले के वैनगंगा नदी के किनारे के गांवों के ग्रामीणों से सावधानी और सतर्कता बरतने की अपील की गई है। साथ ही बावनथड़ी नदी में राजीव सागर बांध से छह गेट खोले गए है।

Posted By: tarunendra chauhan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close