बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय परिस में आज 25 मई को जिले की सभी ग्राम पंचायतों के पंच.सरपंच, जिला पंचायत व जनपद पंचायतों के सदस्यों तथा जनपद पंचायत अध्यक्ष पद के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण की कार्रवाई की गई है। इस दौरान प्रशासन ने जहां आरक्षण प्रक्रिया को पूर्ण रुप से निष्पक्ष तरीके से कराने की बात कहीं है तो वहीं कुछ लोगों ने आरक्षण प्रक्रिया को भाजपा के साथ तालमेल कर मनमाने तरीके से किए जाने का आरोप लगाया है। वहीं जिला पंचायत सीईओ विवेक कुमार ने आपति दर्ज कराने वालों की आपित का समाधान किया है और आपति दर्ज कराने की स्थिति में निराकरण किए जाने का उन्हें आश्वासन दिया है।

सरपंच पद के 690 सीटों पर हुआ आरक्षण

जिला पंचायत सीईओ ने बताया कि जिले में सरपंच के 690, वार्ड पंच के 11 हजार 430, जनपद पंचायत सदस्य के 220, जनपद पंचायत अध्यक्ष के 10 व जिला पंचायत सदस्य के 27 सदस्यों के निर्वाचन क्षेत्र का अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग तथा इन सभी वर्गों में महिलाओं के लिए आरक्षण किया गया है। आरक्षण से सबंधित यह संपूर्ण कार्रवाइ्‌र शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय बालाघाट के सभाहाल व 10 कक्षों में की गई है।

कलेक्टर, एसपी ने किया निरीक्षण

कलेक्टर डॉ गिरीश कुमार मिश्रा ने पुलिस अधीक्षक समीर सौरभ के साथ उत्कृष्ट विद्यालय में आरक्षण की कार्रवाई का निरीक्षण किया और प्रत्येक जनपद पंचायत के लिए निर्धारित कक्ष में जाकर आरक्षण की कार्रवाइ्‌र के लिए नियुक्त अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि आरक्षण की कार्रवाई नियमों के अनुसार एवं त्रुटिरहित की जाए और इसमें किसी तरह की लापरवाही न होने दें। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी विवेक कुमार ने जनपद पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य व जनपद पंचायत अध्यक्ष के आरक्षण की कार्यवाई को संपन्ना कराया है।

मिलीभगत का लगाया आरोप

आरक्षण की प्रक्रिया के दौरान अपने-अपने क्षेत्र में हुए आरक्षण को लेकर बहुत सारे लोगों ने आपति दर्ज कराकर इसके भाजपा के साथ मिलीभगत कर करवाने का आरोप लगाया है।यहां सालिकराम लिल्हारे जनपद क्रमांक 21 ने आरोप लगाते हुए कहा कि जिला पंचायत सीईओ ने भाजपा सरकार के साथ मिलकर आरक्षण की प्रक्रिया को संपन्ना कराया गया है। उनके संरक्षण में 2014 में आरक्षण हुआ था उस समय महिला आरक्षत था जिसके आधार पर आरक्षण नहीं होना था लेकिन एक बार फिर से महिला आरक्षित हो गया है जो कि न्यायोचित नहीं है जिसके लिए आपति दर्ज करवाई गई है। उन्होंने बताया कि ऐसा कई क्षेत्र में हुआ है।

बालाघाट की ग्राम पंचायतों की ये स्थिति

बालाघाट जनपद की 77 ग्राम पंचायतों की आरक्षण प्रक्रिया के बाद पादरीगंज एसटी महिला,सोनखार एससी महिला,गुडरु सामान्य महिला,सकरी एसटी पुरुष, कुकडा ओबीसी महिला,मोहगांव एसटी पुरुष, बटवा सामान्य महिला, पचपेड़ी ओबीसी महिला,चागोंटोला ओबीसी पुरुष, नगरवाडा ओबीसी महिला, अरनामेटा एसटी महिला, चमरवाही सामान्य महिला, घुनाडी सामान्य पुरुष,परतापुर एसटी पुरुष, बुढ़िया गांव ओबीसी पुरुष, टाकाबर्रा सामान्य पुरुष, लामटा सामान्य पुरुष, भोडंवा ओबीसी पुरुष, मोतेगांव सामान्य महिला, कोचेवाडा सामान्य पुरुष,

अतरी सामान्य पुरुष, मौरीया एसी महिला, भालेवाडा एसटी महिला, नेवरगांव सामान्य महिला, शेरवी एसटी पुरुष, चरेगांव सामान्य महिला, टिटवा एसटी महिला, मगरदर्रा एससी पुरुष, ओरमा सामान्य महिला, समनापुर सामान्य महिला, आमगांव एसटी पुरुष, रोशना एसटी पुरुष,

धापेवाडा ओबीसी पुरुष, जरेरा सामान्य महिला, कुम्हारी ओबीसी पुरुष, जागपुर ओबीसी महिला,पाथरवाडा ओबीसी महिला, टवेझरी ओबीसी पुरुष, बोदा सामान्य पुरुष, भटेरा सामान्य पुरुष, खैरी सामान्य पुरुष, आवलाझरी सामान्य पुरुष, बघोली ओबीसी महिला, भरवेली एससी महिला, हीरापुर सामान्य महिला, मानेगांव सामान्य पुरुष, पायली सामान्य महिला, टेकाडी ओबीसी महिला, धनसुआ एसटी महिला, सुरवाही सामान्य महिला, अमेडा सामान्य महिला, रट्टा एसटी पुरुष, खुटिया सामान्य महिला, बगदर्रा सामान्य महिला, कटंगी सामान्य पुरुष, कोसमी ओबीसी पुरुष, नवेगांव सामान्य पुरुष, लिंगा सामान्य महिला, नैतरा सामान्य पुरुष, गोगलई सामान्य महिला, भमोडी ओबीसी महिला,चीचगांव सामान्य पुरुष, पेंडराई सामान्य पुरुष, कोहकाडीबर ओबीसी महिला, खुरसोडी सामान्य महिला,देवरी ओबीसी महिला, लोहारा ओबीसी महिला,

परसपानी ओबीसी पुरुष, गडदा ओबीसी पुरुष, तिवडी कला एसटी महिला, केशले ओबीसी पुरुष, नाहरवानी ओबीसी पुरुष, परसवाड़ा एसटी महिला, हरदोली ओबीसी पुरुष, खैरगांव एसी पुरुष, हट्टा ओबीसी पुरुष व खोडसिवनी में ओबीसी पुरुष की स्थिति निर्मित हुई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close