बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पेट्रोल-डीजल की समस्या दिनों-दिन गहराती जा रही है। पंप संचालकों के सामने आपूर्ति का संकट गहराता जा रहा है। हालात नहीं सुधरे तो पंप बंद करने की स्थिति निर्मित हो जाएगी। एचपी के पंपों में पेट्रोल नहीं है तो भारत के पंपों में डीजल का टोटा है। जिससे वाहन चालकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। स्टाक खत्म होने से पूर्व सप्लाई की चैन टूटने से यह समस्या निरंतर बढ़ती जा रही है। जिससे पंप संचालकों को ही नहीं व्यापारी और आम उपभोक्ताओं को भी जूझना पड़ रहा है।उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

जिले की स्थितिः जिले में पिछले 15 दिनों से पेट्रोल-डीजल की सप्लाई बाधित हुई है।जिससे उभोक्ताओं को पेट्रोल-डीजल की कमी का सामना करना पड़ रहा है।लगातार रैक नहीं आने से डिपों में टैंकर नहीं लग पा रहे हैं।इस वजह से बालाघाट में स्टाक खत्म होने से पूर्व होने वाली आपूर्ति पूरी तरह ठप हो गई है।ज्यादातर पेट्रोल पंपों शहर में ज्यादातर पंप में पेट्रोल नहीं हैं,तो ग्रामीण क्षेत्रों में डीजल की कमी है।शहर में पेट्राल की खपत अधिक है,जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में डीजल ज्यादा लग रहा है।

गहराएगा खरीफ फसल पर खतराः पेट्रोल-डीजल की कमी से महज परिवहन और यात्री वाहनों पर ही नहीं कृषि उपयोगी वाहनों पर भी विपरीत असर पड़ेगा।डीजल की कमी से खरीफ सीजन पर खतरा बढ़ेगा,ज्यादातर कृषि ट्रैक्टर व अन्य मशीनरी पर आधारित हो गया है।यही हालात रहे तो जिले में खरीफ सीजन की फसलों का रकबा भी कम हो सकता है।

ये है स्थिति

-तीन दिन पहले मांग करने भी एचपी के पंपों में नहीं पहुंच रहे टैंकर।

-जबलपुर में रेक लगने पर चार दिन पहले की मांग वाले टैंकर आज भरे गए।

-शहर में बढ़ी पेट्रोल की खपत।

-ग्रामीण क्षेत्रों में डीजल की कमी।

- पेट्रोल-डीजल की कमी दिनों-दिन बढ़ा रही परेशानी।

इनका कहना ...

पेट्रोल डीजल की कमी से आपूर्ति प्रभावित हो रही है।सब कुछ ठीक रहा तो एक दो दिन में हालात सामान्य हो जाएंगे।पेट्रोल-डीजल के लिए भारत के टैंकर आज भरकर निकलेंगे। कुछ रात और सुबह तक बालाघाट पहुंच जाएंगे।

-मोहम्मद युशुफ खान,मैनेजर शास्त्री पेट्रोल पंप

इनका कहना ...

पेट्रोल डीजल की कमी से परिवहन व्यवस्था पर बुरा असर पड़ रहा है।लगातार डिमांड भेजे जाने के बाद भी समय रैक नहीं लगने से पेट्रोल-डीजल के टैंकर नहीं भर पा रहे हैं।इससे शहर में आपूर्ति का संकट बढ़ गया है।इससे परिवहन व्यवस्था पर ही नहीं व्यापार पर भी बुरा असर पड़ेगा।

- डाल चंद्र चौरड़िया पूर्व चैंबर आफ कामर्स अध्यक्ष बालाघाट

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close