बालाघाट/चरेगांव (नईदुनिया न्यूज)। वन परिक्षेत्र दक्षिण लामता सामान्य के चरेगांव अंतर्गत शेरवी में एक खेत के सूखे कुएं में वन्यप्राणी मादा भालू का बच्चा विचरण करते समय कुएं में गिर गया। वन विभाग द्वारा तीन घंटे के रेस्क्यू आपरेशन चलाकर सकुशल बाहर निकाल लिया गया।दरअसल,वन परिक्षेत्र उत्तर लामता सामान्य व दक्षिण लामता सामान्य की पूरी बीटे कारीडोर से जुड़ी है। जिससे वन्यप्राणी अनेक बार खेतों व बस्ती तक विचरण करते हुए जाते है। बुधवार रात में मादा भालू गांव से लगे खेत में विचरण करते समय उसका बच्चा कुएं में गिर गया था।

वन परिक्षेत्र अधिकारी दक्षिण लामता सामान्य सौरभ शरणागत ने बताया कि गुरुवार सुबह खेत में बोवनी करने गए एक किसान ने दूरभाष पर सूचना दिया कि उसके खेत के कुएं में एक भालू का बच्चा गिर गया है। क्योंकि वन परिक्षेत्र उत्तर लामता सामान्य व दक्षिण लामता सामान्य की पूरी बीटे कारीडोर से जुड़ी होने से वन्यप्राणी विचरण करते हुए गांव व खेतों तक आ जाते है। जंगल खेत से लगा होने से मादा भालू विचरण करते हुए खेतों तक आई होगी। जहां अंधेरा होने से बच्चा कुएं में गिरा होगा।वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में मौके पहुंच कर पूरे क्षेत्र को सील किया गया। इसके बाद रेस्क्यू कर तीन घंटे की मशक्कत के बाद वन्य प्राणी भालू के बच्चा को सूखे कुएं से बाहर निकाला गया।रेस्क्यू कर निकाले गए भालू के बच्चा को शेरवी के जंगल में छोड़ दिया गया।

इनका रहा योगदानः मुख्य वन संरक्षक एनके सनोडिया के मार्गदर्शन में वन मंडल अधिकारी उत्तर सामान्य वनमंडल बालाघाट अभिनव पल्लव, उप वन मंडला अधिकारी उकवा सामान्य प्रशांत साकरे, उप वन मंडल अधिकारी बैहर लोकेश निरापुरे के मार्गदर्शन में रेस्क्यू कार्य को अंजाम दिया गया।रेस्क्यू कार्य में वन परिक्षेत्र अधिकारी दक्षिण लामता सामान्य सौरभ शरणागत, परिक्षेत्र सहायक लामता भाग-दो राजेश पांडे, परिक्षेत्र सहायक मगरदर्रा मनीष सिंहा, परिक्षेत्र सहायक मकरदर्रा रूपसिंह परते, परिक्षेत्र सहायक चरेगांव एनके बंसल, वनरक्षक गजेंद्र बिसेन, विशेष कंचन खंडागले, देवांशु यादव, कमल किशोर पांडे, दिलीप बांधते सहित वन अमला, सुरक्षा श्रमिक का योगदान रहा।

फोकस प्वाइंट

- बालाघाट, लामता व चरेगांव की टीम ने किया रेस्क्यू।

- खेत में बोवनी करने गए किसान गुंचीलाल बोपचे ने आवाज आने पर सुबह आठ बजे कुएं में देखा।

- 11 बजे से दो बजे तक चला रेस्क्यू।

- एक साल उम्र का था मादा भालू का बच्चा।

- खेत से जंगल दो सौ मीटर दूर।

इनका कहना

ग्राम शेरवी में खेत के एक सूखे कुएं में मादा भालू का बच्चा गिर गया था।जंगल खेत से लगा होने से मादा भालू विचरण करते खेत में आ गई होगी।रेस्क्यू कर कुएं से सकुशल बाहर निकालकर शेरवी के जंगल में छोड़ दिया गया।

एनके सनोड़िया, मुख्य वन संरक्षक बालाघाट।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close