सेंधवा (नईदुनिया न्यूज)। बलवाड़ी कालेज की घोषणा मेरे मंत्री रहते हुए हुई थी, जिसे मुख्मंत्री शिवराजसिंह सरकार ने शुरू किया है। अब लोग भ्रांतियां फैला रहे हैं कि कॉलेज बंद होने वाला है, जो गलत है। अब कॉलेज की खुद की जमीन व बिल्डिंग होगी।

ये बात पूर्व मंत्री अंतरसिंह आर्य ने गुरुवार को ग्राम केरमला में कॉलेज भवन के निर्माण के प्रस्तावित सरकारी जमीन के निरीक्षण के दौरान कही। भाजपा प्रवक्ता सुनील अग्रवाल ने बताया कि पूर्व मंत्री अंतरसिंह आर्य गुरुवार को भाजपा कार्यकर्ता के भाई की गमी में वरला गए थे। इस दौरान ग्राम केरमला में आठ एकड़ सरकारी जमीन का बलवाड़ी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सेवक चौहान के साथ निरीक्षण भी किया। निरीक्षण के दौरान केरमला की जमीन बलवाड़ी कॉलेज को देने के लिए तहसीलदार से चर्चा की। पटवारी को जमीन के सीमांकन करने के संबंध में बात कर कॉलेज के लिए उक्त जमीन उचित बताते हुए उन्होंने कहा कि अनुमानित आठ एकड़ भूमि पर कॉलेज के निर्माण के लिए में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मिलकर जमीन व बिल्डिंग के लिए राशि भी आवंटित कराई जाएगी। पूर्व मंत्री आर्य ने बताया कि इसके अतिरिक्त मेरी कुछ लोगों से भी चर्चा हुई है वे भी जमीन देने को तैयार है, लेकिन सरकारी जमीन मिल जाती है तो उस पर ही कॉलेज का निर्माण होगा। आर्य ने बताया कि लोगों में फैली भ्रांतियां को दरकिनार करते हुए कहा कि बलवाड़ी कॉलेज कभी बंद नहीं होगा। ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को पढ़ने में कोई परेशानी न हो इसलिए कॉलेज खोला गया है। इस दौरान भाजपा कार्यकर्ता सूर्यसिंह राठौड़, किशोर जैन, मनोज मंडलोई, अशोक नुवाल, राजू चौधरी, संजय राठौड़, जगदीश तेरसिंग, डॉ. सेवक चौहान, नवनीत पाटिल आदि उपस्थित थे।

एक नजर कॉलेज पर

वर्ष 2017 में कॉलेज शुरू करने की अनुमति मिली। शैक्षणिक सत्र 2018-19 से कॉलेज संचालन शुरू हुआ। वर्तमान में कॉलेज में केवल कला संकाय में बीए संकाय में फाइनल तक की कक्षाएं संचालित हो रही हैं। इस सत्र में कुल 208 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। कॉलेज भवन के अभाव में प्राथमिक विद्यालय के चार कमरों में कॉलेज संचालन हो रहा है। प्राचार्य डॉ. सेवक चौहान ने बताया कि वरला तहसील कार्यालय से केरमला स्थित सरकारी जमीन कॉलेज भवन के लिए बताई गई है। उक्त पत्र सहित जमीन संबंधी जानकारी आयुक्त उच्च शिक्षा विभाग व उच्च अधिकारियों को भेजी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस