Barwani News: बड़वानी। कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने जिला चिकित्सालय में एवजी रखकर सरकारी राशि का घोटाला करने पर स्टीवर्ड दीपक देवराय व वार्ड बाय विजय कलोसिया को मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम के अंतर्गत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। वहीं सिविल सर्जन, आरएमओ सहित 6 लोगों को कारण बताओ नोटिस दिया है।

कलेक्टर के अनुसार वार्डबाय विजय कलोसिया ने जिला चिकित्सालय के बर्न यूनिट में कार्यरत होकर विगत दो वर्षों से अपने कर्तव्य पर अनुपस्थित रहकर अपने स्थान पर अनिता नामक महिला को ड्यूटी पर लगा रखा था।

वार्डबाय जिला चिकित्सालय के उपस्थिति रजिस्टर में सिर्फ हस्ताक्षर करता था तथा उसके स्थान पर अनिता नाम की महिला बर्न यूनिट में कार्य करती थी । जिसके बदले में वार्ड बाय उसे 5 हजार रूपये महीना देता था । वार्ड बाय के उक्त कृत्य की शिकायत कलेक्टर को प्राप्त होने पर उन्होंने जांच करवाई ।

जांच में उक्त शिकायत सही पाए जाने पर कलेक्टर ने वार्ड बाय को पदेन दायित्वों में लापरवाही बरतने के कारण निलंबित कर दिया है। स्टीवर्ड दीपक देवराय जिला चिकित्सालय में कर्मचारियों की ड्यूटी लगाता है। उसके द्वारा वार्ड बाय से मिली भगत कर 1 वर्ष अनुपस्थित रहने के उपरान्त भी फर्जी उपस्थिति पत्रक से वेतन आहरण करने पर शासन को कुल वार्षिक वेतन लगभग 5 लाख 29 हजार 809 रुपये की हानि पहुंचाई गई ।

इस कारण स्टीवर्ड दीपक देवराय को भी अपने दायित्वों एवं शासकीय कार्यो में गंभीर लापरवाही बरतने पर निलम्बित किया गया है।

कलेक्टर वर्मा ने उक्त प्रकरण में जिला चिकित्सालय बड़वानी के तत्कालीन सिविल सर्जन डाॅ. अरविन्द सत्य, वर्तमान सिविल सर्जन डाॅ. मनोज खन्ना, तत्कालीन आरएमओ डाॅ. मनीषा सक्सेना, वर्तमान आरएमओ डाॅ. चेतन ब्राहम्णे, लेखापाल प्रकाश मण्डलोई, बर्न यूनिट की नर्सिग आफिसर शबाना मंसूरी को कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर 3 दिवस में अपने समक्ष उपस्थित होकर जवाब प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close