*हजारों मरीजों का किया उपचार, तंबाकू-गुटका छोड़ने की शर्त पर दे रहे निश्शुल्क सेवा

*अपनी अनूठी सेवा से मिसाल पेश कर रहे बड़वानी के तीन चिकित्सक

युवराज गुप्ता . बड़वानी

बड़वानी में कुछ चिकित्सक ऐसे भी हैं जो अपनी अनूठी सेवा के लिए पहचाने जाते हैं। इनमें से एक चिकित्सक डा. प्रकाश यादव प्रतिदिन मंदिर में बैठकर गरीबों और जरूरतमंद मरीज का निश्शुल्क इलाज कर रहे हैं। 1984 से शुरू हुई सेवा के तहत अब तक वे 25 हजार मरीजों का निश्शुल्क उपचार कर चुके हैं। दूसरे चिकित्सक ने 2000 से ज्यादा गरीब जरूरतमंदों का निश्शुल्क आपरेशन किया है। नर्मदा परिक्रमा करने वाले सदाव्रती हों या फिर भिक्षावृत्ति करने वाले लाचार लोग या झुग्गी बस्ती के गरीब। नेत्र विशेषज्ञ डा. राजेंद्र मालवीया हर गरीब जरूरतमंद की आंख का निश्शुल्क आपरेशन व इलाज अपने खर्च से कर रहे हैं। एक अन्य चिकित्सक डा. चक्रेश पहाड़िया तंबाकू-गुटका छोड़ने के संकल्प की शर्त पर मरीज का निश्शुल्क आपरेशन व इलाज कर रहे हैं। इन्होंने अब तक 200 लोगों से तंबाकू-गुटके के सेवन का नशा छुड़ा.या है। इन सभी की सेवा की दूर-दूर तक चर्चा हो रही है।

---

गायत्री मंदिर में रोजाना जानते हैं मरीजों का हाल

शहर के वरिष्ठ समाजसेवी एवं चिकित्सक डा. प्रकाश यादव 71 वर्ष की उम्र में भी रोजाना अपनी सेवाएं जारी रखे हुए हैं। प्रतिदिन सुबह 8.30 पाटी नाका स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर पहुंच जाते हैं। यहां पर मंदिर में बैठकर प्रतिदिन करीब 20 से 25 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनका उपचार करते हैं। अक्सर चिकित्सक के इंतजार में कुछ मरीज सुबह छह बजे से ही आकर मंदिर के ओटले पर बैठ जाते हैं। डा. यादव ने बताया कि वर्ष 1984 से सेवा का यह क्रम जारी है। सुबह देव दर्शन के साथ ही मरीजों का निश्शुल्क उपचार कर दिन की शुरुआत करते हैं। मरीजों को लगने वाली दवा भी वे स्वयं ही अपने खर्च से लाते हैं। गायत्री परिवार के समाजसेवी और अधिवक्ता सुनील पुरोहित ने बताया कि चिकित्सक यादव के साथ शुरू से ही मंदिर में सेवाएं दे रहे हैं। किसी भी मर्ज के मरीज यहां आते हैं और निश्शुल्क उपचार व औषधि लेकर जाते हैं। यदि कोई व्यक्ति स्वेच्छा से कुछ देना चाहे भी तो वह मंदिर की दानपेटी में डलवाया जाता है। डा. यादव गायत्री मंदिर के अलावा आशाग्राम ट्रस्ट और गोशाला में भी अपनी सेवाएं देते हैं। वहां भी वे निश्शुल्क उपचार करते हैं।

---

दो हजार से अधिक मरीजों का किया निश्शुल्क आपरेशन

समाजसेवी डा. राजेंद्र मालवीया वर्ष 2002 से लगातार लोगों की सेवा कर रहे हैं। वे प्रतिदिन दो गरीबों व जरूरतमंद मरीजों के आंखों की जांच, इलाज और आपरेशन निश्शुल्क करते हैं। उनके साथ डा. ललित मालवीया भी सेवाएं दे रहे हैं। उनके रजिस्टर में दर्ज रिकार्ड के अनुसार अब तक वे 2000 से ज्यादा गरीब, जरूरतमंदों का उपचार निश्शुल्क कर चुके हैं। इन मरीजों में जिले में भिक्षावृत्ति करने वाले मरीज सहित नर्मदा परिक्रमावासी सदाव्रती भी शामिल हैं। सेंधवा से आए मरीज गंगाराम बोडसे ने बताया कि आपरेशन के बाद अब आंखों से साफ दिखने लगा है। वहीं कमलाबाई ने बताया कि निश्शुल्क उपचार मिलने से फिर जीवन में उजियारा आया है। डा. मालवीया के अनुसार ऐसे जरूरतमंदों की आंखों की रोशनी लौटाकर उनके जीवन में उजियारा करना उनके जीवन का प्रमुख लक्ष्‌य है।

---

200 लोगों का तंबाकू और नशा छुड़ाया

समाजसेवी डा. चक्रेश पहाड़िया भी अपनी अनूठी मानव सेवा जारी रखे हुए हैं। वे तंबाकू का अत्यधिक सेवन करने वाले मरीजों से तंबाकू व नशा छुड़ाते हैं। इसके लिए वे निश्शुल्क उपचार की शर्त रखते हैं। यदि कोई मरीज तंबाकू व नशा का सेवन बंद करने का संकल्प लेता है तो उसका पूरा इलाज निश्शुल्क करते हैं। डा. पहाड़िया के अनुसार ऐसा करने से यदि कोई व्यक्ति नशे से दूर होता है तो इससे बड़ी सेवा और कुछ नहीं है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close