श्रीराज जाट, बड़वानी। अपने हुनर के दम पर प्रसिद्ध होने के लिए अब फिल्म इंडस्ट्री मुंबई या कि सी बड़े शहर जाने की जरूरत नहीं रह गई है। सोशल मीडिया पर गांव में रहकर घर बैठे भी युवा कॉमेडी सहित अन्य विधाओं की दुनिया में प्रसिद्ध हो रहे हैं। ऐसे ही जिले का एक युवा की यू-ट्यूब पर 'निमाड़ी राजा" के नाम से खासी धूम है। जिले की ठीकरी तहसील के ग्राम हतोला निवासी सतीश हेमराज उर्फ 'निमाड़ी राजा" निमाड़ी बोली में कि स्से, कहानियों व रोचक घटनाओं से जुड़े कॉमेडी वीडियो बनाते हैं। इनको देखने वालो की सोशल मीडिया पर भीड़ लगी है। 37 लाख लोग उनके बनाए वीडियो देख चुके हैं।

सतीश ने अब तक 200 से अधिक वीडियो बनाकर यू-ट्यूब पर अपलोड कि ए हैं। सभी वीडियो गांव, उनके खेत व घर पर ही बनाए हैं। उनके निमाड़ी राजा व निमाड़ी टेक गुरु के नाम पर दो चैनल हैं। सतीश पेशे से शिक्षक है, जो तलवाड़ा डेब में निजी स्कू ल में गणित पढ़ाते हैं और साथ ही खेती संभालते हैं।

उनको गूगल की ओर से वीडियो अपलोड करने के लिए अधिकृत मान्यता मिली है। इस हुनर से उनकी आज देशभर में सोशल मीडिया पर पहचान भी बनी और उनकी कु छ कमाई भी होने लगी और इससे वे संतुष्ट हैं।

'उड़दिया की दाल" वीडियो से फेमस हुए

सतीश ने 2017 में यू-ट्यूब पर वीडियो अपलोड करना शुरू कि या। सबसे पहला निमाड़ी वीडियो 'उड़दिया की दाल" बनाकर अपलोड कि या। इसके कु छ ही दिनों में लाखों व्यूअर्स हो गए। अब तक निमाड़ी राजा सतीश हेमराज नाम के चैनल पर 200 व निमाड़ी राजा टेक गुरु पर 500 निमाड़ी कॉमेडी वीडियो बनाकर डाल चुके हैं।

'धोती वई गी, निमाड़ म आया अंग्रेज, कालू जेटजी, या खाट के तरा की है, या कु तरी के तरा की" जैसे वीडियो के तीन-तीन लाख व्यूअर्स हैं। यही नहीं उनके चेनल के 20 हजार से अधिक सब्सक्राइबर हो गए हैं। एक छोटे से गांव में रहकर निमाड़ी सभ्यता, संस्कृति को प्रसिद्ध बनाने वाले निमाड़ी राजा के निमाड़ ही नहीं प्रदेश सहित अन्य राज्यों में भी चाहने वाले हो गए हैं।

पहले गांव में लोग उड़ाते थे मजाक

सतीश ने बताया कि यू-ट्यूब पर लोगों के वीडियो देखकर अपने वीडियो बनाने का आइडिया आया। मैं निमाड़ का हूं तो मैंने निमाड़ी बोली में कहावतें, कि स्सों, संस्कृति, बुजुर्गों की पुरानी बातें आदि विषयों पर अपने तरीके से वीडियो बनाता हूं। शुरुआत में गांव के लोग हंसते थे। लेकि न आज हर कोई तारिफ कर मेरे वीडियो देखकर आनंद ले रहा है। मेरे साथ वीडियो बनाने के लिए कई बड़े यू-ट्यूबर आते हैं।

यहीं नहीं जिले के कई लोगों ने फे मस होने के लिए मेरे साथ वीडियो बनाए। जब गांव में ही सोशल मीडिया से अपना हुनर दुनिया को दिखाकर हंसा सकता हूं तो इसके लिए मुंबई जाने की जरूरत नहीं है। मुझे गूगल व यू-ट्यूब से सराहना भी मिल रही है। मेरा उद्देश्य सिर्फ निमाड़ के कि स्सों व सभ्यता को आज की हाई टैक हो चुकी युवा पीढ़ी को याद दिलाए रखना है।

Posted By: Sandeep Chourey