Ram Mandir Bhoomi Pujan : विवेक पाराशर। बड़वानी (नईदुनिया)। देश की आस्था और गौरव की स्थली अयोध्या पुनः अपनी गरिमा प्राप्त करेगी। प्रत्येक हिंदुस्तानी आनंदित होकर झूम रहा है। ऐसे में करीब 28 वर्ष पूर्व कारसेवा करने गए कारसेवकों के लिए भी महत्तवपूर्ण है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर का पुनर्निर्माण होते देखना तप की सिद्धि के समान है।

यह बात 1992 में कारसेवा के दौरान निमाड़ का प्रतिनिधित्व करने वाले बड़वानी जिले के ग्राम ब्राह्मणगांव निवासी 70 वर्षीय पंडित सुभाषचंद्र गीते ने नईदुनिया से विशेष चर्चा में कही। पं. गीते की बेटी शालिनी बड़ोले ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय का फै सला सुनकर ही पिताजी की आंखें भीग गई थी और गला भर आया था। हालांकि पं. गीते ने यह भी कहा कि फै सला आते-आते काफी देर भी हो गई।

कारसेवा में साथ गए कई साथी दुनिया छोड़ चुके हैं। उन्होंने बताया कि कारसेवा के लिए उनके साथ राजपुर विधानसभा के पूर्व विधायक स्व. देवीसिंह पटेल, दवाना से स्व. सदाशिव पाटीदार, ब्राह्मणगांव से स्व. शंकरलाल राठौड़ व स्व. रेवाराम के वट भी गए थे। आज भले ही वे नहीं रहे लेकि न उनकी स्मृति हमेशा बनी रहेगी और जन्मभूमि आंदोलन में उनकी सहभागिता सदा याद की जाएगी।

हाइवे पर की थी सभा

पं. गीते ने बताया कि कारसेवा के लिए वे साथियों के साथ चित्रकू ट के आगे हनुमना (उत्तरप्रदेश) पहुंचे तो उन्हें वहीं रोक दिया गया। वहां कारसेवकों के कई जत्थे सुदूर प्रदेशों से आए थे। जब इन्हें आगे जाने के लिए रोका गया तो हनुमना हाइवे पर ही सभा की गई। उसमें संबोधित करने के कारण इन्हें गिरफ्तार कि या गया। साथ ही उत्तरप्रदेश के नैनी जेल में भेजने का आदेश हुआ, लेकि न जेल में जगह न होने के कारण इन्हें वहीं रोके रखा। शाम को विवादित ढांचे के टूटने की खबर आई तो इन्हें अयोध्या जाने के बजाय चित्रकू ट से लौटना पड़ा, लेकि न धार जिले के ग्राम हथनावर के स्व. गट्टूलाल शर्मा पुलिस को चकमा देकर अयोध्या पहुंच गए। अयोध्या में कारसेवकों पर बर्बरता से लाठीचार्ज और गोलीबारी की गई थी। इस दौरान गट्टूलाल के कंधे में गोली लगी थी।

आज मनाएंगे आस्था और विजय का पर्व

पं. गीते ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के ऐतिहासिक फै सले के बाद पांच अगस्त का दिन हर भारतीय के लिए गौरव का दिन है। इसे आस्था और विजय के पर्व के रूप में मनाएंगे। घर के आगे घी के दीपक जलाएंगे। पं. गीते के आंदोलन में शामिल रहे अन्य साथी दवाना से सरदारसिंह चौहान और ठीकरी से बाबूभाई महाजन भी राम मंदिर पुनर्निर्माण को लेकर काफी खुश हैं।

जिला मुख्यालय से भी गया था कारसेवकों का जत्था

1992 में अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए बड़वानी से भी कारसेवकों का जत्था अयोध्या गया था। कारसेवक अपने साथ बड़वानी से एक शिला लेकर गए थे। अयोध्या जाने से पूर्व जिला मुख्यालय पर शिला की भव्य शोभायात्रा निकाली गई थी। शोभायात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे। अयोध्या जाने वाले जत्थे में बड़वानी-खरगोन लोकसभा के वर्तमान सांसद गजेंद्र पटेल भी शामिल थे। साथ ही प्रवीण पांडे, मनोज परिहार, रामकृष्ण गुप्ता, कै लाश महाजन, संतोष भावसार, जयकांत महाजन, प्रकाश त्रिवेदी आदि शामिल थे

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस