Ram Navami 2023: युवराज गुप्ता, बड़वानी। ‘राम से बड़ा राम का नाम...’ यह कीर्तन आज भी प्रासंगिक है। हिंदू धर्म के आराध्य मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीरामजी के नाम का कीर्तन आज भी शहर सहित सुदूर गांवों में निरंतर जारी है। ‘हरे राम हरे कृष्णा’ की धुन आज भी शहर से लेकर गांवों तक प्रतिदिन सुबह-शाम सुनाई देती है। यह धुन नहीं, धर्म जागरण का साधन है जो आज भी लोगों को प्रेम और भक्ति के साथ परस्पर जोड़े हुए है। प्राचीनकाल से चली आ रही रामधुन की यह पावन परंपरा आज भी जारी है। गुजरात के सरदार सरोवर बांध के डूब क्षेत्र में आए गांवों सहित नर्मदा पट्टी के अन्य गांवों में रामधुन की परंपरा आज भी निरंतर चल रही है। नर्मदा पट्टी के विविध गांवों में प्रतिदिन रामधुन की गूंज सुनाई दे रही है।

250 वर्ष पुराना है मंदिर

वहीं रियासतकालीन शहर बड़वानी में भी प्राचीन श्रीरामकृष्ण मंदिर में प्रतिदिन रामधुन का कीर्तन हो रहा है। यहां विश्व कल्याण और सभी की खुशहाली के लिए प्रतिदिन यह कीर्तन किया जा रहा है। मंदिर समिति एवं रामधुन संकीर्तन मंडल के बालकृष्ण गुप्ता एवं मनीष शर्मा ने बताया कि शहर के राजबाड़े के इंद्रभवन परिसर में रियासतकालीन श्रीरामकृष्ण मंदिर है। 250 साल पुराने इस मंदिर में नित्य पूजन के साथ ही कीर्तन होता है। वर्ष 1982 से यहां पर वृंदावन के बालकृष्णदासजी महाराज की प्रेरणा से प्रतिदिन रामधुन का संगीतमय कीर्तन हो रहा है। मंदिर में भगवान श्रीराम दरबार की प्राण प्रतिष्ठा बड़वानी रियासत के महाराणा मानवेंद्रसिंह के पूर्वजों ने की थी।

नर्मदा पट्टी के इन गांवों में भी रामधुन

समाजसेवी मनीष शर्मा एवं राजघाट निर्माण समिति के पंडित सचिन शुक्ला के अनुसार नर्मदा पट्टी के विभिन्न गांवों में आज भी रामधुन कीर्तन की परंपरा का निर्वाह किया जा रहा है। इनमें प्रमुख रूप से ग्राम पीपरी, कसरावद, पिपलाज, पेंड्रा, कल्याणपुरा, राजघाट सहित धार जिले के तटीय गांवों में स्थित राम मंदिर व अन्य मंदिरों में प्रतिदिन रामधुन की जा रही है। पंडित शुक्ला के अनुसार राजघाट पर नर्मदा परिक्रमा के लिए आने वाले श्रद्धालु प्रतिदिन श्री दत्त मंदिर में दर्शन पूजन के साथ ही कीर्तन भी करते हैं। श्रद्धालुओं का समूह रामधुन और नर्मदा मैया का कीर्तन करता है।

प्रभातफेरी भी निकाल रहे

जिले के आदिवासी अंचल के गांवों में भी कई मंदिरों में रामधुन से धर्म की अलख जगाई जा रही है। कुछ मंदिरों में प्रभातफेरी भी निकाली जा रही है। प्रभातफेरी में ‘हरे राम हरे कृष्ण’ की धुन के साथ श्रद्धालुओं के बीच धर्म जागरण किया जा रहा है।

बड़वानी शहर में सुबह रामधुन की प्रभातफेरी

शहर में दर्जी मोहल्ला स्थित प्राचीन शीतला माता मंदिर से प्रतिदिन रामधुन की प्रभातफेरी भी निकाली जा रही है। राजकुमार परिहार एवं उनके साथी भक्तों के द्वारा यह क्रम करीब चार वर्ष से निरंतर जारी है।

Posted By: Prashant Pandey

Mp
Mp