बड़वानी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छात्रवृत्ति के नाम पर प्रवेश दिलाकर मनमाने दाम वसूलने की शिकायत लेकर युवाजन गुरुवार को कलेक्टोरेट पहुंचे। इस दौरान गेट पर धरना-प्रदर्शन किया और हाथों में मांगों की तख्तियां थाम नारेबाजी की। इसके बाद एसडीएम घनश्याम धनगर को ज्ञापन सौंपा।

सुमेरसिंह बड़ोले ने बताया कि पिछले लगभग डेढ़ वर्ष से कोरोना महामारी की वजह से हर वर्ग को आर्थिक नुकसान हुआ है। हमारे जिले में पढ़ाई करने वाले हजारों बच्चे हैं, जो आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। इनमें हजारों बच्चे स्कालर पर निर्भर रहते है लेकिन सरकार द्वारा उनकी छात्रवृति में कटौती करना मतलब उनको शिक्षा से वंचित करने जैसा है। साथ ही कन्या महाविद्यालय में जनभागीदारी के नाम पर अधिक शुल्क वसूला जा रहा है। इस संबंध में मुख्यमंत्री व राज्यपाल के नाम का ज्ञापन एसडीएम को सौंपा। वहीं कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा से भेंट कर चर्चा की। इसके बाद युवाओं ने सात दिन में मांगों का निराकरण नहीं होने की स्थिति में धरना-प्रदर्शन करने की बात कही। इस दौरान प्रमोद नामदेव, दिनेश ठाकुर, कमलू दीदी, नासरी बाई, वालसिंग सस्ते, बेरोजगारी आंदोलन से सुनील सोलंकी, संदीप सोलंकी, विजय गोरे, वीरेंद्र खेड़े, राहुल दोडवा, आंचल चौहान, नीलम सोलंकी, रितेश मोरे, नंदनी अवास्या, शारदा मंडलोई, सपना संगीता आदि उपस्थित थे।

पमा ताई ने लिया मुख्यमंत्री संवाद में भाग

बड़वानी। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के भोपाल निवास पर आयोजित स्व-सहायता समूह के उन्मुखीकरण और संवाद कार्यक्रम में जिले के गांव कानसुल की पमा ताई ने भी भाग लिया। समूह में जुड़ने से आई समृद्धि की गाथा मुख्यमंत्री को सुनाई। आजीविका मिशन के पदाधिकारी योगेश तिवारी ने बताया कि भोपाल में आयोजित इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण टीवी व मोबाइल के माध्यम से भी किया गया था। इसे जिले की अन्य स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने भी देखा व सुना।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local