- रेल बजट में राशि का प्रावधान किए जाने से रेलवे लाइन बिछने की जगी उम्मीद

फोटो-----7बीटीएल13

बैतूल। बैतूल को चांदूर बाजार से सीधे जोड़ने बिछाई जाएगी रेलवे लाइन।

बैतूल। नवदुनिया प्रतिनिधि

बैतूल से चांदूरबाजार (महाराष्ट्र) के लिए सीधी रेलवे लाइन बिछने के कार्य में तेजी आने के आसार नजर आ रहे हैं। हाल ही में पेश बजट में इस लाइन के लिए सर्वे करने 1.75 करोड़ रुपए की राशि का प्रावधान किया गया है। अब उम्मीद जताई जा रही है कि इस कार्य को गति मिल सकेगी। यह लाइन बिछने के बाद न केवल अमरावती के लिए बल्कि मुम्बई के लिए भी सीधी ट्रेन उपलब्ध हो सकेगी।

इस बार वर्ष 2018-19 के रेल बजट में बैतूल-चांदूर बाजार रेल मार्ग के लिए 1 करोड़ 75 लाख रुपए की राशि का प्रावधान किया गया है। दो साल पहले रेल बजट में बैतूल से चांदूर बाजार रेल लाईन के लिए सर्वे कराने का ऐलान किया गया था। इसके तहत कुल 11 करोड़ 25 लाख रुपए बैतूल-चांदूरबाजार नई रेलवे लाईन के लिए रिकसेंस इंजीनियरिंग कम ट्रेफिक सर्वे कार्य के लिए स्वीकृत किए गए थे। इस 75 किलोमीटर लम्बी रेल लाईन के लिए वर्ष 2016-17 में यह राशि स्वीकृत की गई थी। इसके बाद वर्ष 2017-18 में भी 7 करोड़ रुपए आवंटित किए गए, लेकिन इन 2 वर्षों में सर्वे का काम पूरा नहीं हो पाया। सर्वे में 11 करोड़ 25 लाख रुपए खर्च होने का अनुमान रेलवे ने जताया था। इसके तहत 2016-17 में 2 करोड़ 50 लाख, 2017-18 में 7 करोड़ और इस वर्ष 1 करोड़ 75 लाख रुपए खर्च करने की सीमा निर्धारित की गई है। अब यह सर्वे जल्द पूरा होने की उम्मीद नजर आ रही है। सर्वे पूरा होने के बाद अगली कार्रवाई होगी। दो-तीन सालों से केवल सर्वे ही जारी रहने से लोग उम्मीद ही छोड़ने लगे थे।

इतनी राशि का होगा खर्च

इस 75 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन को बिछाने में समतल क्षेत्र में 10 करोड़ रुपए प्रति किलोमीटर और पहाड़ी क्षेत्र में 15 करोड़ रुपए प्रति किलोमीटर का खर्च आने की संभावना है। मेंढा छिंदवाड़ और हीरादेही गांव के बीच में 9 किलोमीटर क्षेत्र में पहाड़ी क्षेत्र में होने से इतनी लंबाई की टनल बनाई जाएगी। हालांकि अभी प्रारंभिक सर्वे है और कार्य शुरू होने में अभी कई साल लग सकते हैं। करीब 2 साल पहले सिकंदराबाद की माथाट्रेक इंफ्राटेक कंपनी ने फील्ड सर्वे शुरू किया था।

बॉक्स-------------------

इस रेलमार्ग से होंगे यह फायदे

- बैतूल और आठनेर ब्लॉकों के बड़े हिस्से सीधे रेलमार्ग से जुड़ जाएंगे। इन क्षेत्रों के कई गांव ऐसे हैं जहां बस सुविधा भी मुहैया नहीं है। इस रेलमार्ग पर 8 स्टेशन होंगे जिनमें बैतूलबाजार, बोरपानी, आठनेर, मेघनाथ ढाना, बेलकुंड, ब्राह्मणवाड़ा और चांदूरबाजार शामिल हैं।

- अमरावती से जिले के व्यवसायियों के कारोबारी संबंध है। अभी इसकी दूरी 200 किलोमीटर है। इस ट्रेक के बिछने से इसकी दूरी मात्र 100 किलोमीटर हो जाएगी। चांदूरबाजार से अमरावती लगभग 35 किलोमीटर दूर है और कनेक्टिविटी भी अच्छी है।

- बैतूल शहर मुंबई से सीधा जुड़ जाएगा। अभी मुंबई के लिए नागपुर, इटारसी से ट्रेन पकड़ता है। इस ट्रैक से मुंबई के लिए सीधी ट्रेन उपलब्ध हो जाएगी। इटारसी से जाने पर 880 और नागपुर से 850 किलोमीटर मुंबई पड़ता है। इस मार्ग से मुंबई 768 किलोमीटर होगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close