बैतूल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अपनी विभिन्ना मांगों को लेकर धरना आंदोलन कर रहे आशा, ऊषा और आशा सहयोगिनी संघ ने एनएचएम के अंतर्गत कार्यरत आशा, ऊषा और आशा सहयोगिनी कार्यकर्ताओं की मांगों का निराकरण करने स्वास्थ्य मंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा।

संघ की जिला अध्यक्ष किरण कालभोर ने बताया कि वर्ष 2005 से एन.एच.एम. के अंतर्गत कार्य कर रही कुशल एवं प्रशिक्षित स्वस्थ्य सेवा प्रदाता आशा, ऊषा एवं सहयोगिनी कार्यकर्ता ने कोविड महामारी के इस दौर में भी अपनी व अपने परिवार की जान जोखिम में डालकर अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है। किसी सुरक्षा संसाधन एवं बगैर सम्मानजनक पारिश्रमिक के ही स्वास्थ्य सेवा का उत्कृष्ट कार्य किया है, इसके बावजूद राज्य सरकार के द्वारा सदैव अनदेखी की जाती रही है और कार्य के अनुरूप की जा रही मांगों का आज तक निराकरण नहीं किया। संघ ने स्वास्थ्य मंत्री से आग्रह करते हुए कहा कि आशा, ऊषा और आशा सहयोगिनी की मांगों का तत्काल निराकरण किया जाए।

संघ ने मांग की है कि आशा, ऊषा एवं सहयोगिनी कार्यकर्ताओं को सरकारी कार्मचारी का दर्जा दिया जाये, 18 हजार व सहयोगिनी कार्यकर्ताओं को 24 हजार रुपये मानदेय निश्चित किया जाए। महामारी आपदा जैसे कोविड 19 में काम कर रहे योद्धा आशा, ऊषा एवं सहयोगिनी कार्यकर्ताओं से महामारी संबंधित कार्य कराने के समय तक उनके एवं परिवार के इलाज का खर्च, सरकारी और प्रायवेट संस्थानों में शासन के द्वारा वहन किया जाए एवं अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि प्रतिमाह 10 हजार रुपये , सुरक्षा सामग्री, शासन द्वारा सम्मान पत्र एवं उनके परिवार जन को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की जाए तथा क्षेत्र में कार्यकर्ताओं पर हो रहे अभद्रता एवं हमलों के प्रकरणों में त्वरित कठोर कार्यवाही की जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags