बैतूल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में तेज हवा के साथ हुई मानसून की पहली बारिश से नदी-नालों में पानी आ गया और कई पेड़ उखड़ गए। बैतूल-भोपाल नेशनल हाइवे 69 पर भौंरा के समीप धार नदी भी तेज बारिश के कारण शुक्रवार सुबह उफन गई। सड़क पर बनी पुलिया पर बाढ़ का पानी आ जाने की वजह से आवागमन बंद कर दिया गया। तीन घंटे बाद दोपहर एक बजे पुलिया पर पानी कम होते ही पुलिस ने जैसे-तैसे आवागमन प्रारंभ कराया। इस दौरान पुलिया के दोनों ओर करीब पांच किलोमीटर दूर तक वाहनों की कतार लगी रही। बाढ़ के कारण यातायात बंद होने से बैतूल से गंभीर मरीज को भोपाल लेकर जा रही 108 एंबुलेंस के पहिए भी थमे रहे। बाढ़ के कारण जैसे ही पुलिया पर पानी आया पुलिस ने आवागमन रोक दिया। इससे लोग परेशान होकर पानी कम होने का तीन घंटे तक इंतजार करने के लिए मजबूर हुए। होशंगाबाद संभाग के आइजी जेएस कुशवाह भी बाढ़ के कारण देरी से बैतूल पहुंचे।

घोड़ाडोंगरी में सर्वाधिक 73 मिमी बारिश

गुरूवार शाम से प्रारंभ हुई तेज बारिश के कारण जिले में सुबह 8 बजे तक 27.6 मिलीमीटर औसत बारिश दर्ज की गई है। घोड़ाडोंगरी, बैतूल, भीमपुर और शाहपुर विकासखंड सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई। भू-अभिलेख कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक बैतूल में 36.2 मिमी, घोड़ाडोंगरी में 73.0 मिमी, चिचोली में 14.4 मिमी, शाहपुर में 43.2 मिमी, मुलताई में 25.0 मिमी, पट्टन में 10 मिमी , आमला में 9 मिमी भैंसदेही में 10 मिमी आठनेर में 11.1 मिमी, भीमपुर में 44 मिमी बारिश दर्ज की गई है।

घोड़ाडोंगरी में आफत बनी बारिश-

घोड़ाडोंगरी नगर में पहली बारिश ही लोगों के लिए आफत बन गई। यहां के हॉस्पीटल कॉलोनी के पीछे के घरों में लोगों के घरों में बारिश का पानी भरा गया। वहीं समीप ही नाला है, लेकिन नाले के पानी की निकासी नहीं होने के कारण बारिश का पानी नहीं निकला और लोगों के घरों में भरा गया। खेड़ापति माता मंदिर की मुख्य सड़क के आसपास रहने वाले लोगों ने यह आरोप भी लगाया कि लोगों ने अपने घरों के सामने की नालियों को फर्शी से ढंक कर उसे सीमेंट कांक्रीट से बंद कर दिया है। इससे सड़क का पानी नालियों में नहीं जा पाता है। नालियां भी बंद होने के कारण गंदा पानी सड़क के ऊपर से बहता है। इससे लोगों के घरों में गंदगी जा रही है।

धार नदी की बाढ़ में घंटों फंसी रही एंबुलेंस

शुक्रवार सुबह धार नदी में आई बाढ़ से तीन घंटे लगे जाम में बैतूल से भोपाल मरीज को ले जा रही 108 एंबुलेंस भी फंसी रही। बाढ़ का पानी उतरने के बाद मार्ग को चालू किया गया। जाम से गाड़ियों की लंबी कतारें लग गई। इसके चलते पहले बड़े वाहनों को निकालने की कवायद शुरू की गई। छोटे वाहनों को बाद में निकाला गया। एंबुलेंस को निकलवाने में सुखतवा पुलिस को काफी मशक्कत के बाद सफलता मिल सकी। 108 के योगेश पवार ने बताया कि जिला अस्पताल से कोरोना के मरीज को भोपाल ले जाया जा रहा था। इस दौरान काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags