बैतूल। सामूहिक दुष्कर्म का शिकार नाबालिग छात्रा की इलाज के दौरान मौत हो गई। बता दें कि छात्रा ने मंगलवार देर शाम खुद को केरोसिन डालकर आग लगा ली थी। छात्रा को 90 फीसदी जली हालत मंगलवार रात 10 बजे जिला अस्पताल से नागपुर मेडिकल कॉलेज रैफर किया गया, जहां इलाज के दौरान बुधवार सुबह छात्रा ने दम तोड़ दिया।

कोतवाली टीआई राजेन्द्र धुर्वे ने बताया कि अपने मृत्युपूर्व बयान में छात्रा ने 3 लड़कों द्वारा दुष्कर्म किए जाने की बात कही थी। दुष्कर्म के बाद ये तीनों लड़के इस छात्रा को ब्लैकमेल कर रहे थे। इसी से परेशान होकर छात्रा ने खुद को आग के हवाले किया था। पीड़िता के बयान के आधार पर 2 आरोपितों को हिरासत में लिया गया है जबकि एक फरार आरोपित को भी हिरासत में ले लिया गया है। आरोपित संदीप हिसाने को अमरावती महाराष्ट्र से और नितेश नागले को कालडोंगरी भैंसदेही से पकड़ा है।

बता दें कि कोतवाली थाना क्षेत्र में कक्षा 8वीं में पढ़ने वाली 14 वर्षीय छात्रा ने 3 लड़कों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म का शिकार बनाए जाने और फिर लगातार ब्लैकमेल करने से परेशान होकर मंगलवार शाम खुद को आग के हवाले कर लिया था। 90 फीसदी जली हालत में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां छात्रा ने बताया था कि डेढ़ माह पहले उसके साथ संदीप, अजय और नितेश नाम के लड़कों ने दुष्कर्म किया था। इसके बाद से वे लगातार उसे ब्लैकमेल कर रहे थे। इससे आहत होकर उसने ये कदम उठाया।

पुलिस के मुताबिक छात्रा के पास से एक पत्र भी मिला है जिसमें उसने लिखा कि यदि उसकी मौत होती है तो उसका जिम्मेदार एक लड़का होगा। पत्र में एक लड़के का मोबाइल नंबर भी दर्ज है। दुष्कर्म की शिकार नाबालिग के आग लगाने की सूचना पर एसपी समेत आला अफसर अस्पताल पहुंचे थे। तहसीलदार ने पीड़िता के बयान दर्ज किए।

Posted By: Rahul Vavikar

fantasy cricket
fantasy cricket