मुलताई (नवदुनिया न्यूज)। नगर सहित पूरे क्षेत्र में दो दिनों से लगातार वर्षा होने से जन जीवन प्रभावित हो गया है। बारिश के कारण जहां कच्चे मकानों के रहवासी भय में है वहीं खेतों में भी पानी भर गया है जिससे फसल प्रभावित हो रही है। लगातार मूसलधार वर्षा होने से छोटे नालों तथा नदियों में बाढ़ चल रही है जिससे ग्रामीण अंचलों में लोगों के घरों में पानी घुस रहा है। मूसलधार बारिश से बाजार में भी त्योहार सामने होने के बावजूद रौनक कम नजर आ रही है।

बुधवार सुबह से लेकर शाम तक लगातार बारिश होती रही जिससे राखी सहित अन्य सामानों की बिक्री पर सीधा असर पड़ा। राखी के एक दिन पूर्व बाजार में भारी भीड़ होती है तथा जमकर सामानों की बिक्री होती है लेकिन बुधवार लगातार बारिश के कारण फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले व्यापारियों का भी धंधा प्रभावित हुआ। राखी की दुकाने सड़क के किनारे लगाने वाले व्यापारियों ने बताया कि लगातार बारिश के कारण उनका अपेक्षित सामान नही बिका है जिससे बाद में उन्हे पूरे एक वर्ष तक सामान सहेज कर रखना होगा वहीं उन पर कर्ज चढ़ जाएगा। व्यापारियों ने बताया कि नगर सहित ग्रामीण अंचलों में भी लगातार बारिश होने से ग्रामीण ग्राहक नगर में नही आ रहे हैं जिन पर पूरा धंधा निर्भर रहता है। इधर शाम को कुछ देर के लिए बारिश रूकी जिससे बाजार में सामान लेने के लिए ग्राहक पहुंचे।

भारी बारिश के कारण नगर के ताप्ती वार्ड तथा पटेल वार्ड की गलियों में पानी भरा गया है। जल की निकासी नही होने से लोगों के घरों में पानी घुस रहा है जिससे सामान खराब हो रहा है। वार्डवासियों ने बताया कि इस बार की बारिश ने समस्या बढ़ा दी है जिसका निदान नही हो रहा है एैसी स्थिति में उन्हे प्रतिदिन समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

अंभोरा पुलिया टूटने से प्रभावित हुए 12 गांवों के ग्रामीण

इधर मासोद मार्ग पर अंभोरा नदी पर बनी पुलिया टूटने के कारण विगत चार पांच दिनों से लगभग 10 से 12 गांवों का संपर्क टूटा हुआ है। मुलताई से आठनेर जाने के लिए वाहनों को लगभग 25 किलोमीटर का फेरा लगाना पड़ रहा है वहीं प्रभात पट्टन जाने के लिए भी वाहनों को लंबा फेरा लगाना पड़ रहा है। मासोद के प्रवीण जैस्वाल ने बताया कि पुलिया टूटने के बाद मरम्मत नही करने से संपर्क टूटा हुआ है। इधर भारी बारिश के कारण अंभोरा नदी पर लगातार बाढ़ चल रही है जिससे स्थिति दिन पर दिन बिगड़ते जा रही है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close