बैतूल (नवदुनिया न्यूज)। जिले में मंगलवार से जारी वर्षा के कारण बुधवार को सुबह से ही नदी-नाले उफान पर हैं। माचना नदी में बाढ़ आ जाने से शाहपुर में पुल पर बुधवार सुबह से दो फीट पानी बह रहा है। इससे बैतूल-भोपाल के बीच सड़क संपर्क टूट गया है। बैतूल-इंदौर मार्ग पर करबला पुल पर पानी आने से आवागमन बाधित हो गया है। वर्षा के कारण पारसडोह के चार और चंदोरा जलाशय के सात गेट खोल दिए गए हैं। बैतूल शहर के महावीर वार्ड में कुछ घरों में पानी घुस गया है। बैतूल विकासखंड में पिछले 24 घंटे में चार इंच वर्षा दर्ज की गई है। शाहपुर में माचना नदी के पुल पर पानी होने के बाद भी बस निकालने पर पुलिस ने बस जब्त कर ली है।

इधर आठनेर थाना क्षेत्र में नाले में आई बाढ़ में बाइक सवार बह गया है। जिले में पिछले 24 घंटे में जिले में 71.7 मिमी. वर्षा दर्ज की गई है। अभी तक कुल 1066.5 मिमी. वर्षा हो चुकी है। भारी वर्षा जारी रहने से चंदोरा जलाशय के आठ गेट आधा मीटर की ऊंचाई तक खोल दिए गए हैं। इसके अलावा पारसडोह जलाशय के भी चार गेट तीन मीटर की ऊंचाई तक खोल दिए गए हैं। पिछले 24 घंटे में बुधवार सुबह आठ बजे तक सबसे ज्यादा बैतूल विकासखंड में चार इंच से अधिक वर्षा दर्ज की गई है। घोड़ाडोंगरी में 96 मिमी, चिचोली में 55.2 मिमी, शाहपुर में 87 मिमी , मुलताई में 94 मिमी , प्रभात पट्टन में 52.2 मिमी, आमला में 49 मिमी , भैंसदेही में 49 मिमी , आठनेर में 50.2 मिमी एवं भीमपुर में 75 मिमी. वर्षा दर्ज की गई है।

दामजीपुरा से युनूस खान ने बताया कि क्षेत्र में पिछले 24 घंटे से लगातार वर्षा हो रही है। इससे बुधवार सुबह धामदेही गाड़ा घाट नदी फिर उफान पर आ गई है। इससे महाराष्ट्र, बुरहानपुर की ओर जाने वाले मार्ग पर आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया है। इस नदी के पुल की ऊंचाई बढ़ाने की मांग ग्रामीणों के द्वारा लंबे समय से की जा रही है लेकिन प्रशासन के द्वारा कोई प्रयास ही नहीं किए जा रहे हैं।

बैतूल-बैतूल परतवाड़ा मार्ग पर गिरा पेड़ः बैतूल-परतवाड़ा मार्ग पर केरपानी गांव के समीप ताप्ती घाट में एक बड़ा पेड़ बीच सड़क पर गिर गया। इसके चलते घंटो तक आवागमन बंद रहा और वाहनों की लंबा जाम लग गया। जाम लगने की वजह से राहगीर परेशान होते रहे। करीब घंटों बाद राहगीरों ने ही पेड़ को मार्ग से हटाकर रास्ता साफ किया और आवागमन शुरू हुआ। राहगीरों ने बताया वर्षा के दिनों में अक्सर पेड़ गिरने या पत्थर गिरने की घटनाएं होती हैं। इसके चलते राहगीरों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लोगों ने मांग की है कि घाट कटिंग पर लोहे की जाली लगाकर मिट्टी को फिसलने से रोका जाए। साथ ही जो पेड़ किनारे पर लगे हैं उनकी छंटाई की जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close