बैतूल। नईदुनिया प्रतिनिधि। Madhya Pradesh News वन विभाग की टीम ने भोपाली मेले में सपेरों से छह सांप मुक्त कराए हैं। इनमें पांच कोबरा और एक रेड सेंडबोआ प्रजाति का है। सपेरों ने कुछ सांपों के मुंह सिले थे और कुछ के मुंह फेवीक्विक से चिपका दिए थे। टीम ने पशु अस्पताल में उनका इलाज कराया है।

प्रसिद्ध धार्मिक स्थल भोपाली में महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में लगा है मेला

बैतूल उत्तर वन मंडल की रानीपुर रेंज के रेंजर सचिन गुप्ता के मुताबिक जिले के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल भोपाली में महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में मेला लगा है। वहां कुछ नाबालिग सपेरे सांपों के दर्शन कराकर कमाई कर रहे थे। सूचना मिलने पर वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया। फिर टीम मेले में भेजी।

सपेरे अपने बच्चों और सांपों को छोड़कर भाग गए

बताया जाता है कि टीम को देखकर सपेरे अपने बच्चों और सांपों को छोड़कर भाग गए। टीम ने सपेरों के बच्चों के पास से छह सांप बरामद किए। सारणी के वन्य प्राणी संरक्षण कार्यकर्ता आदिल खान को बुलाकर जांच कराई तो पाया कि दो सांपों के मुंह सिले हुए थे। शेष के मुंह फेवीक्विक से चिपके हुए थे। जिससे ये सभी सांप मुंह नहीं खोल पा रहे थे।

तब रविवार को ये सांप बैतूल पशु अस्पताल लाए। जहां सर्जन डॉ. मृदुला सिन्हा ने सभी सांपों के मुंह खोले। उन्हें पानी पिलाया और उनका उपचार किया। सर्जन डॉ. सिन्हा ने बताया कि एक कोबरा सांप की हालत बहुत ही गंभीर थी। टीम को सलाह दी है कि ठीक होने पर सांपों को जंगल में छोड़ दिया जाए।

Posted By: Hemant Upadhyay