मुलताई (नवदुनिया न्यूज)। नगर पालिका में जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही से वर्षों से चल रहे निर्माण कार्य समय सीमा के बावजूद पूर्ण नहीं हुए हैं। ऐसी स्थिति में अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे हैं वहीं नगर पालिका द्वारा निर्माण कार्यो को पूर्ण करने पर ध्यान देने की अपेक्षा लगातार सामान खरीदी नगर में चर्चा का विषय बनी हुई है। नगर के लिए महत्वपूर्ण हरदौली जलावर्धन योजना के तहत बनाया जा रहा फिल्टर प्लांट समय सीमा पूर्ण होने के बावजूद पूरा नहीं हुआ है। जिसे लेकर विगत माह कलेक्टर ने भी पहुंचकर फिल्टर प्लांट का निरीक्षण किया था तथा समय सीमा तय की थी लेकिन इसके बावजूद फिल्टर प्लांट का कार्य जून माह के अंत में भी पूर्ण नहीं हुआ है। इधर ताप्ती सरोवर में निस्तार का पानी समाहित ना हो सके इसके लिए सीवर लाइन एवं ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य वर्षों से चल रहा है जो भी पूर्ण नहीं हुआ है। सीवर लाइन बिछाने के लिए नगर की पक्की सीमेंट सड़कों को तोड़ दिया गया है जिसकी मरम्मत भी नहीं की गई। लेकिन सीवर लाइन का भी कार्य अभी तक अधूरा पड़ा हुआ है वहीं ट्रीटमेंट प्लांट के नाम पर नगर पालिका परिसर मे एक बड़ा गड्ढा कर दिया गया है जिसमें फिलहाल बारिश का पानी भर गया है। नगर को पेयजल आपूर्ति के लिए बेरियर नाके के पास पुरानी टंकी ढहा के नवीन टंकी का निर्माण लंबे समय से किया जा रहा है जिसके भी निर्माण की कई बार समय सीमा पूर्ण होने के बाद बढ़ाई गई लेकिन वर्तमान में टंकी का कार्य पूर्ण नहीं हुआ है। ऐसी स्थिति में नगर के लिए उपयोगी एवं महत्वपूर्ण संरचनाओं का निर्माण कार्य अधर में लटका हुआ है वहीं इसे पूर्ण करने के लिए कोई ठोस प्रयास नहीं किए जा रहे हैं जिससे नपा के अधिकारियों की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं वहीं जागरूक नागरिकों द्वारा उच्चाधिकारियों से शीघ्र ही महत्वपूर्ण संरचनाओं के पूर्ण करने की मांग की जा रही है।

बिना फिल्टर प्लांट पूर्ण किए पिलाया जा रहा बांध का पानीः

नगर में हरदौली योजना के तहत बांध से मुलताई में पानी लाकर इसे फिल्टर प्लांट के माध्यम से साफ कर पिलाया जाना चाहिए था। लेकिन नगर पालिका के अधिकारियों द्वारा ग्रीष्मकाल से ही बिना फिल्टर प्लांट पूर्ण किए सीधे बांध से नगर वासियों को पानी पिलाया जा रहा है। पूरे मामले में अधिकारियों द्वारा पानी में कुछ तत्व मिलाकर ट्रीट करने का बताया जा रहा है लेकिन बड़े स्तर पर पानी की सप्लाई में बिना फिल्टर प्लांट से फिल्टर किए जल प्रदाय करना लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है। पूरे मामले में कलेक्टर ने मुलताई के खरसाली गांव के पास बने फिल्टर प्लांट पहुंचकर शीघ्र प्लांट को पूर्ण करने के निर्देश दिए थे वहीं ठेकेदार को चेतावनी भी दी गई थी लेकिन इसके बावजूद कलेक्टर के आदेश का भी निर्माण पर कोई असर नहीं पड़ा और फिल्टर प्लांट अभी भी अधूरा है जिससे अब बारिश में बांध का दूषित पानी नपा द्वारा लोगों को पिलाया जा रहा है ऐसी स्थिति में अधिकारियों की लापरवाही को लेकर नागरिकों में रोष बना हुआ है।

सीवर लाइन के लिए खोद दी पक्की सीमेंट सड़कें:

नगर पालिका द्वारा सीवर लाइन डालने के नाम पर तीन वार्डो की सीमेंट सड़कें बीच से तोड़ी गई हैं। सीवर लाइन पक्की सड़क के एक ओर से भी लगाई जा सकती थी लेकिन पाईप फिटिंग के नाम पर सीमेंट सड़कें तोड़कर मरम्मत का आश्वासन दिया गया। लेकिन विगत दो वर्ष बाद भी सीमेंट सड़कों की मरम्मत की गई और ना ही सीवर लाइन फिटिंग का कार्य पूर्ण हुआ। ऐसी स्थिति में जहां सीमेंट सड़कें क्षतिग्रस्त हुई हैं वहीं के रहवासियों को बारिश में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सड़कें बीच में से खुदने पर उसकी मिट्टी से कीचड़ हो रहा है वहीं बारिश में सड़कों के बीच पौधे उग आए हैं। रहवासियों ने बताया कि विगत दो वर्षों से वे परेशानी उठा रहे हैं तथा आवागमन में परेशानी हो रही है साथ ही लोग भी बारिश में फिसल कर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं लेकिन नगर पालिका द्वारा क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत नहीं की जा रही है।

सीवर लाइन पूर्ण नहीं होने से सरोवर में समाहित हो रही गंदगीः

नगर पालिका द्वारा सीवर लाइन प्रोजेक्ट में लगभग तीन वर्ष बाद भी ना सीवर लाइन की फिटिंग पूर्ण हुई है और ना ही पानी को स्वच्छ करने के लिए बनाया जा रहा ट्रीटमेंट प्लांट ही पूर्ण हुआ है। ऐसी स्थिति में ताप्ती सरोवर में उक्त एरिये के निस्तार का गंदा पानी लगातार समाहित हो रहा है। सीवर लाइन प्रोजेक्ट का कार्य मंथर गति से चलने से इस बार फिर एक बार बारिश में ताप्ती सरोवर में गंदगी बड़ी मात्रा में समाहित होगी। इधर सीवर लाइन प्रोजेक्ट के लिए प्रयुक्त पाईप के साईज को लेकर भी नगरवासियों में संशय बना हुआ है कि क्या पतले पाईपों से सीवर लाइन प्रोजेक्ट सफल हो पाएगा। नागरिकों के अनुसार जिस साईज के पाईप का उपयोग किया जा रहा है उससे सीवर लाइन प्रोजेक्ट सफल नजर नहीं आता लेकिन समस्या यह है कि तीन वर्ष बाद भी अभी तक सीवर लाइन प्रोजेक्ट अधर में लटका हुआ है।

पेजयल टंकी अधूरीः

नगर पालिका द्वारा निर्माण की जा रही महत्वपूर्ण संरचनाओं में नगर की प्रमुख पेयजल टंकी भी शामिल है जिसका कार्य भी वर्षों से किया जा रहा है। उक्त निर्माण कार्य में कई बार समय सीमा पूर्ण होने के बावजूद ठेकेदार को समय दिया गया लेकिन इस वर्ष जून के अंत में भी पेयजल टंकी का निर्माण पूर्ण होता नजर नहीं आ रहा है। ऐसी स्थिति में पुरानी टंकी सहित नगर में जगह-जगह बने टांकों से नगर पालिका जलापूर्ति कर रही है। यहां सवाल यह उठता है कि आखिर महत्वपूर्ण संरचनाओं के निर्माण में अधिकारियों द्वारा इतनी लापरवाही कैसे बरती जा रही है वहीं उच्चाधिकारियों द्वारा संरचनाओं को शीघ्र पूर्ण कराने के लिए क्या प्रयास किए जा रहे हैं। इधर नगर की महत्वपूर्ण संरचनाओं के अधूरे रहने के बावजूद जनप्रतिनिधिगण भी मौन होने से लोगों में रोष व्याप्त है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close